जेएनएन, बरेली : महात्मा ज्योतिबा फूले रुहेलखंड विश्वविद्यालय की जमीन को लेकर जालसाजी के मामले की जांच तेज हो गई है। तहसीलदार सदर ने पंजाब नेशनल बैैंक पटेल चौक शाखा प्रबंधक के साथ अब यूनिवर्सिटी रजिस्ट्रार को भी नोटिस जारी किया है। खतौनी में जालसाजी करने के आरोपित सह खातेदारों को भी पक्ष रखने का मौका दिया है। उसके बाद तहसील की टीम मौका मुआयना करके रिपोर्ट तैयार करेगी। तब कार्रवाई होगी। 

यूनिवर्सिटी में शामिल प्लॉट संख्या 32 व 33 में करीब 2720 वर्ग मीटर जमीन के रिकॉर्ड में गड़बड़ी की गई है। आरोप है कि खतौनी में जालसाजी करके जमीन की मिल्कियत अपने नाम दर्ज करा ली। इसके बाद बैैंक से लाखों का ऋण लिया गया। मामला संज्ञान में आने के बाद एसडीएम सदर ईशान प्रताप सिंह ने तहसीलदार को जांच सौपी है। बैैंक और सह खातेदार भगवान दास मौर्य इत्यादि के साथ रुहलेखंड यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार को भी नोटिस जारी किया गया है। एक सप्ताह के भीतर सभी से जमीन के संबंध में साक्ष्य उपलब्ध कराने के लिए कहा गया है। उसके बाद जमीन की मिल्कियत तय की जाएगी। तब तक जमीन के क्रय-विक्रय पर रोक लगा दी गई है। सबकी सुनने के बाद तहसील की टीम संबंधित जमीन का मौका मुआयना करेगी। कार्रवाई के लिए रिपोर्ट एसडीएम को भेजी जाएगी। 

तहसीलदार का कहना है कि तीनों पक्षों से नोटिस पर जवाब आने के बाद नायब तहसीलदार की अगुवाई में टीम गठित करके मौके पर भेजेंगे। अब तक की गई रिकॉर्ड की जांच में जमीन यूनिवर्सिटी की ही प्रतीत हो रही है। जालसाजी का मामला है।  

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप