मुरादाबाद। मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी की जमीनों के संबंध में पूछताछ के लिए सांसद आजम खां की पत्नी और दोनों बेटों को नोटिस जारी किया गया है। पुलिस की स्पेशल टीम की ओर से दिए गए नोटिस में तीन दिन के अंदर बयान दर्ज कराने को कहा है।सांसद आजम खां के खिलाफ जौहर यूनिवर्सिटी की जमीनों को लेकर अजीमनगर थाने में ३० मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। इन सभी मुकदमों की जांच के लिए पुलिस अधीक्षक डॉ.अजय पाल शर्मा ने स्पेशल टीम बनाई है, जो अभी तक जांच पूरी नहीं कर सकी है। टीम प्रभारी दिनेश गौड़ ने जमीनों के अभिलेख उपलब्ध कराने के लिए यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार को नोटिस दिया था। तब उन्होंने जवाब दिया कि यूनिवर्सिटी की जमीनों का सारा रिकार्ड मौलाना मोहम्मद अली जौहर ट्रस्ट के पास है। इसके बाद पुलिस ने १० दिन पहले आजम खां की बहन निकहत अफलाक को थाने ले जाकर पूछताछ की। वह ट्रस्ट की कोषाध्यक्ष हैं लेकिन, पुलिस को उनसे कोई जानकारी नहीं मिल सकी। सपाइयों ने इसके विरोध में प्रदर्शन भी किया। इसके बाद पुलिस ने तीन सितंबर को ट्रस्ट के चार पदाधिकारियों को नोटिस जारी किए। आजम खां की पत्नी राज्यसभा सदस्य डॉ. तजीन फात्मा, विधायक नसीर अहमद खां, जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन सलीम कासिम और निकहत अफलाक को नोटिस जारी किया, जिसमें कहा कि तीन दिन में बयान दर्ज करा दें। इसके बाद नसीर अहमद खां ने महिला थाने पहुंचकर बयान दर्ज कराए, लेकिन पुलिस को उनसे भी कोई खास जानकारी नहीं मिल सकी। अन्य किसी ने बयान दर्ज नहीं कराए हैं। पुलिस अधीक्षक डॉ.अजय पाल शर्मा ने बताया कि एक बार फिर जौहर ट्रस्ट के सदस्यों और पदाधिकारियों को नोटिस जारी किए गए हैं। इनमें राज्यसभा सदस्य डॉ.तजीन फात्मा, उनके बेटे विधायक अब्दुल्ला आजम और अदीब आजम, विधायक नसीर खां व निकहत अफलाक शामिल हैं। एसपी ने बताया कि आजम खां की पत्नी के साथ ही उनके दोनों बेटे भी ट्रस्ट में शामिल हैं। नसीर खां से पहले खास जानकारी नहीं मिल सकी है, इसलिए दोबारा नोटिस जारी किया गया है। तीन दिन में बयान दर्ज कराने को कहा गया है।

हमसफर रिसोर्ट में भी सरकारी जमीन, वाद दायर

रामपुर : सांसद आजम खां और उनकी पत्नी राज्यसभा सदस्य डॉ.तजीन फात्मा के हमसफर रिसोर्ट में भी सरकारी जमीन पाई गई है। राजस्व टीम ने रविवार को रिसेार्ट की जमीन की पैमाइश की थी। उपजिलाधिकारी सदर प्रेम प्रकाश तिवारी ने जांच रिपोर्ट जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार ङ्क्षसह को भेज दी है। डीएम ने बताया कि जांच में पाया गया है कि हमसफर रिसोर्ट में खाद के गड्ढों और चक रोड की जमीन भी शामिल है। खाद के गड्ढों की जमीन कब्जाने के आरोप में तहसीलदार सदर के न्यायालय में और चक रोड की जमीन कब्जाने के मामले में उपजिलाधिकारी सदर के न्यायालय में वाद दायर किए गए हैं। उन्होंने बताया कि विधिक राय लेने के बाद अन्य कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।

 

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस