नई दिल्ली, जेएनएन। Sedition Accused Sharjeel Imam: देश तोड़ने का भाषण देकर देशद्रोह के मामले में आरोपित बने जेएनयू के छात्र शरजील इमाम को पांच दिनों की रिमांड पर दिल्ली क्राइम ब्रांच के हवाले कर दिया गया है। कड़ी सुरक्षा के बीच उसे देर शाम पटियाला हाउस के मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट पुरुषोतम पाठक के आवास पर पेश किया गया। क्राइम ब्रांच की तरफ से दलील दी गई कि आरोपित से गहन पूछताछ करनी है इसलिए पांच दिनों की रिमांड मंजूर की जाए। इस पर अदालत ने रिमांड मंजूर करते हुए आरोपित का मेडिकल कराने के लिए भी कहा।

शरजील इमाम को पहले पटियाला हाउस अदालत में ही पेश किया जाना था, लेकिन तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए मुख्य मजिस्ट्रेट के आवास पर पेश करने का फैसला लिया गया। करीब साढ़े चार बजे शरजील को साकेत थाना में लाया गया। मीडिया की भीड़ को देखते हुए छह बजे उसे थाने से निकालकर मुख्य मजिस्ट्रेट के यहां पेश किया गया। करीब आधे घंटे की कार्यवाही के बाद उसे पांच दिन की रिमांड पर भेज दिया गया।

क्राइम ब्रांच की तरफ से मुख्य मजिस्ट्रेट को बताया गया आरोपित ने देश को बांटने के लिए भड़काऊ भाषण दिया और दिल्ली की जामिया मिल्लिया इस्लामिया के अलावा अन्य जगहों पर भी अपने देश विरोधी बयान को दोहराया। आरोपित को बिहार से गिरफ्तार कर ट्रांजिट रिमांड पर लाया गया है। मुख्य मजिस्ट्रेट ने क्राइम ब्रांच से केस से जुड़े कुछ अन्य तथ्यों पर जानकारी लेने के बाद उसे रिमांड पर भेज दिया। इस पूरी प्रक्रिया के दौरान साकेत थाना और न्यायिक रिहायशी क्षेत्र में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था का इंतजाम किया गया था।

बिहार से गिरफ्तार किया गया था शरजील

जेएनयू के छात्र शरजील इमाम को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने बिहार के जहानाबाद से मंगलवार को गिरफ्तार किया था। शरजील ने पहचान छिपाने के लिए बाल व दाढ़ी छोटी करा ली थी। पुलिस ने वह कार भी जब्त कर ली थी, जिससे वह भागने की तैयारी में था। मंगलवार देर शाम पुलिस ने उसे मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी (सीजेएम) के समक्ष पेश कर 36 घंटे की ट्रांजिट रिमांड पर लिया। उसका मेडिकल कराने के बाद पटना ले जाया गया। सुरक्षा के लिहाज से उसे महिला थाने में रखा गया था।

गिरफ्तारी के लिए बनाई गई थी 5 टीमें

दिल्ली क्राइम ब्रांच के पुलिस उपायुक्त राजेश देव ने बताया कि शरजील को गिरफ्तार करने के लिए पांच टीमें बनाई गई थीं। पटना, जहानाबाद, मुंबई सहित उसके अन्य ठिकानों पर रविवार और सोमवार को छापेमारी की गई थी। पता चला कि वह सीएए के विरोध में रैली में पटना के फुलवारीशरीफ इलाके में दिखा है। पुलिस ने उसके गांव काको में छापेमारी की, लेकिन वह नहीं मिला। इसके बाद उसके भाई मुजम्मिल व एक साथी को हिरासत में लेकर पूछताछ की व शरजील को काको गांव के मलिक टोला से दबोच लिया गया।

क्या है मामला

शरजील का अलीगढ़ मुस्लिम यूर्निवसिटी के भाषण का वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें वह कह रहा है कि लोग संगठित हो जाएं तो हम भारत से असम को अलग कर सकते हैं। एक-दो महीने के लिए तो ऐसा कर सकते हैं। वह अपील कर रहा है कि रेलवे ट्रैक पर इतना मलबा डालो कि हटाने में एक महीना लगे। असम को काटना हमारी जिम्मेदारी है।

 

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस