नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। जेएनयू में फीस बढ़ोतरी के खिलाफ एबीवीपी से जुड़े छात्रों ने बृहस्पतिवार को प्रदर्शन किया। छात्रों का विरोध मार्च मंडी हाउस से शुरू होकर शास्त्री भवन तक पहुंचा। छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) की तरफ से कहा गया कि उनके 11 काउंसलर भी छात्र संघ के प्रतिनिधियों के साथ समिति की बैठक में शामिल हुए थे। इन सभी की ओर से मांग की गई कि छात्रावास की फीस को तुरंत वापस लिया जाए। 

इससे पहले जेएनयू छात्र संघ के प्रतिनिधियों ने बुधवार को मानव संसाधन विकास मंत्रलय (एमएचआरडी) द्वारा गठित की गई उच्चस्तरीय समिति से मुलाकात की। समिति ने छात्रों से सामान्य स्थिति बहाल करने की अपील की। लेकिन छात्र संघ ने कहा कि पहले मांगों को माना जाए। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के अध्यक्ष एवं समिति के सदस्य प्रो. अनिल सहास्त्रबुद्धे ने बताया कि अब तक डीन, छात्रवास के वॉर्डन और छात्रों से हमारी मुलाकात हो चुकी है। जेएनयू में सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए सभी से अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है। गुरुवार को कुछ फैकल्टी के सदस्यों को भी बैठक के लिए बुलाया गया है और कुछ छात्रों को भी बैठक के लिए बुलाया गया है। इस मामले का समाधान जल्द ही निकाल लिया जाएगा। इसकी पूरी रिपोर्ट दो से तीन दिन में एमएचआरडी को सौंप दी जाएगी।

तीन सदस्यों की इस समिति की अध्यक्षता यूजीसी के पूर्व अध्यक्ष प्रो. वीएस चौहान कर रहे हैं। साथ ही इसमें अखिल भारतीय तकनीकी परिषद के अध्यक्ष प्रो. अनिल सहस्त्रबुद्धे और यूजीसी के सचिव प्रो. रजनीश जैन शामिल हैं। बैठक में समिति के साथ बातचीत करने के लिए जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आईशी घोष, उपाध्यक्ष साकेत मून, महासचिव सतीश चंद्र यादव और संयुक्त सचिव एम.दानिश मौजूद रहे। बैठक में जेएनयू के 42 काउंसलरों में से 34 काउंसलर भी मौजूद थे। बुधवार को समिति की दो बैठकें हुईं। पहली बैठक में छात्र संघ एवं काउंसलर मौजूद थे। दूसरी बैठक दोपहर 3 बजे हुई जिसमें छात्रवास के अध्यक्ष मौजूद थे।

छात्र संघ ने कहा कि छात्रवास की फीस बढ़ोतरी को पूरी तरह से सभी छात्रों के लिए वापिस लिया जाए व कुलपति का इस्तीफा लिया जाए। साथ ही छात्र डीन को भी पद से हटाया जाए।

शुक्रवार को समिति जेएनयू परिसर में जाएगी

एमएचआरडी द्वारा गठित उच्चस्तरीय समिति छात्रों से मिलने और मौजूदा मुद्दों का समाधान ढूंढ़ने के लिए शुक्रवार को जेएनयू परिसर जाएगी। बुधवार को एमएचआरडी के कार्यालय शास्त्री भवन में समिति के सदस्यों ने जेएनयू छात्र संघ के प्रतिनिधियों से मुलाकात की थी।

वहीं जेएनयू प्रशासन के अधीन विश्वविद्यालय के सभी स्कूलों के डीन की मंगलवार को उच्चस्तरीय समिति के साथ बैठक हुई। इसमें डीन की तरफ से समिति के समक्ष यह बात बताई गई कि जेएनयू में छात्रवास के फीस बढ़ोतरी करना जरूरी है। इसके लिए समिति से मांग की गई है कि वह इसकी सिफारिश आगे करें क्योंकि विश्वविद्यालय के लिए अतिरिक्त फंड को जुटाना बेहद जरूरी है। तभी गरीब वर्ग के छात्रों को इसका लाभ मिल सकेगा और वह जेएनयू में शिक्षित हो सकेंगे।

वहीं, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के करीब 40 दृष्टिबाधित छात्रों ने बुधवार को आइटीओ स्थित दिल्ली पुलिस के मुख्यालय पर प्रदर्शन किया। छात्रों का आरोप है कि पुलिस ने सोमवार को बल प्रयोग किया। इसमें कई दृष्टिबाधित छात्र घायल हो गए। पुलिस ने इनके साथ मारपीट की थी। दृष्टिबाधित छात्रों ने करीब दो घंटे तक मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के बाद जेएनयू के दृष्टिबाधित फोरम से जुड़े छात्रों के प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली पुलिस के डीसीपी एवं प्रवक्ता मंदीप सिंह रंधावा से मुलाकात की। छात्रों की सभी मांगों पर उन्होंने सकारात्मक कार्रवाई का आश्वासन दिया।

 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस