नई दिल्ली, एएनआइ। निर्भया के चारों गुनहगारों के खिलाफ कोर्ट ने डेथ वारंट जारी होने का दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद ने स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि यह न्याय की जीत है। दोषियों को फांसी दिलाने के लिए सात साल लंबी लड़ाई लड़ने के लिए वह निर्भया के परिजनों को सलाम करती हैं।

उन्होंने कहा कि दोषी को सजा देने में 7 साल क्यों लगे? समय को कम क्यों नहीं किया जा सकता। स्वाति ने कहा कि फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामला चलने के बाद भी इतना लंबा समय लगा। 

वहीं कांग्रेस नेता सुष्मिता देव ने भी कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि निर्भया को न्याय मिला है। उन्होंने सात साल लंबी चली कानूनी लड़ाई पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कानूनविदों और राजनेताओं को इसके बारे में सोचना चाहिए।

उधर, पंजाब महिला आयोग की अध्यक्ष मनीषा गुलाटी ने भी निर्भया के गुनहगारों को मौत का फरमान जारी होने पर खुशी जाहिर की है। अदालत के फैसले का स्वागत करते हुए मनीषा गुलाटी ने कहा कि यह बहुत अच्छा निर्णय है। उन्होंने कहा कि दोषियों को फांसी मिलने पर निर्भया की आत्मा को शांति मिलेगी।

वहीं केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने भी कोर्ट के फैसले का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि न्याय का इंतजार अब खत्म हुआ। उन्होंने कहा कि गैंगरेप और हत्या के दोषियों को जल्द से जल्द फैसला सुनाया जाना चाहिए।

2012 Nirbhaya Case: चारों दोषियों को फांसी देने में लग सकते हैं छह घंटे, जानें पूरी प्रक्रिया

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस