नई दिल्ली, एजेंसी। दिल्ली विधानसभा चुनाव में अपेक्षित परिणाम नहीं मिलने को लेकर भाजपा में मंथन का दौर शुरू हो गया है। इस संबंध में तरह-तरह के तर्क दिए जा रहे हैं। इसी क्रम में दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने भी एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में माना है कि कुछ कमियां रहीं। शाहीन बाग में सीएए के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन पर उनका कहना था कि वे हिंदू-मुस्लिम की बात नहीं कर रहे थे। लेकिन, प्रदर्शन को अब भी सही नहीं मानते। 'गोली मारो" वाला नारा भाजपा की सोच नहीं है। गद्दारों को सजा देने के लिए देश का कानून पर्याप्त है।

सीएम फेस के साथ चुनाव लड़ते तो अलग होता परिणाम

उन्होंने माना कि अगर मुख्यमंत्री का चेहरा के साथ चुनाव में उतरते हुए परिणाम कुछ अलग होता। लेकिन, यह पार्टी का सामूहिक फैसला था। इसके साथ ही मैनिफेस्टो आने में देर हुई, जिससे वे लोगों तक सही समय से नहीं पहुंचा। उसमें दो रुपये किलो आटा देने जैसी बातें भी थी।

48 सीटें जीतने का अनुमान 'गलत नही" था

तिवारी ने कहा, 'मुझे 48 सीटें जीतने का अनुमान था, जो कहीं से गलत नहीं था। करीब 40 फीसद वोट शेयर है। आठ फीसद वोट बढ़ना मामूली बात नहीं है। लेकिन, हम इसे सीटों में तब्दील नहीं कर पाए। चुनाव हारे हैं लेकिन हताश नहीं हैं। हार की समीक्षा शुरू हो गई है। लोगों से बात करेंगे और जिन विषयों पर ध्यान नहीं दिया जा सका, उन पर आज से ही काम शुरू करेंगे।

पार्टी नेताओं की मुझसे नाराजगी नहीं

भाजपा का प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से पार्टी नेताओं की उनके प्रति नाराजगी की अटकलों को खारिज करते हुए तिवारी ने कहा कि उन्हें आज नहीं बल्कि 2016 में अध्यक्ष बनाया गया था। 2019 के लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सातों सीटें जीतीं। पार्टी ने न तो उनसे इस्तीफा मांगा है और न ही उन्होंने इस्तीफा दिया है।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों को पढ़ने के लिए यहां करें क्‍लिक

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस