रेवाड़ी, जागरण संवाददाता। हरियाणा के रेवाड़ी में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (All India Institute of Medical Sciences) को लेकर रेवाड़ी के विधायक और लालू प्रसाद यादव के दामाद चिरंजीव राव ने कहा कि एम्स निर्माण को लेकर सरकार की लचर कार्यशैली को अब और सहन नहीं किया जाएगा। एम्स निर्माण शीघ्र शुरू हो इसको लेकर 17 नवंबर से हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। हजारों लोगों के हस्ताक्षर कराने के बाद एक ज्ञापन मुख्यमंत्री को सौंपा जाएगा, ताकि इलाके की जनता के साथ धोखा न हो सके। विधायक चिरंजीव राव मंगलवार को मॉडल टाउन स्थित अपने आवास पर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। चिरंजीव राव ने कहा कि सरकार को जगाना उनका काम है और वह अपनी इस जिम्मेदारी को लगातार निभाते रहेंगे।

उन्होंने कहा कि विधानसभा में एम्स का मुद्दा मैंने ही उठाया था जिसके बाद सरकार हरकत में आई और एम्स के लिए वैकल्पिक जगह की तलाश करनी भी शुरू कर दी गई है। उन्होंने कहा कि मनेठी में एम्स बनाने को लेकर अगर कोई दिक्कत आ रही है तो खरखड़ा, सहगल पेपर मिल व किसी अन्य जगह पर एम्स को बनाया जा सकता है लेकिन इस काम में अब और देरी बर्दाश्त नहीं होगी।

विधायक ने कहा कि एम्स तो जिला में हर हाल में बनकर रहेगा, इसके लिए चाहे उन्हें विधानसभा के बाहर धरना ही क्यों न देना पड़े। चिरंजीव राव ने कहा कि बावल क्षेत्र के एक गांव से लापता नाबालिग की तलाश को लेकर भी उन्होंने विधानसभा में मामला उठाया था तथा इस बाबत मुख्यमंत्री से अलग से मुलाकात भी की जाएगी।

रेवाड़ी का विकास कराना रहेगी प्राथमिकता

विधायक ने कहा कि उनके लिए रेवाड़ी का विकास कराना सबसे बड़ी प्राथमिकता है। वे प्रशासनिक अधिकारियों से मुलाकात भी कर चुके हैं। शहर में शहीद भगत सिंह की प्रतिमा लगवाई जाएगी ताकि युवा उनसे प्रेरणा ले सके। इसके अतिरिक्त शहर की सफाई व्यवस्था हो या फिर बेसहारा पशु तथा अतिक्रमण की। हर मुद्दे को लेकर वे लगातार अपना काम करेंगे तथा अधिकारियों से समस्याओं का समाधान कराएंगे। उन्होंने कहा कि लोग किसी भी वक्त उनके पास अपनी समस्या लेकर आ सकते हैं। जनता ने उन्हें जो सम्मान दिया है वह उसे भुला नहीं पाएंगे तथा जनता के लिए हर स्तर पर कार्य करके उसे चुकाने का प्रयास करेंगे।

दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021