गाजियाबाद, जेएनएन। 'बांटने की राजनीति करके वोट पाने वालों को इस बार सबक सिखाना होगा। पांच राज्यों के चुनाव परिणाम ने बदलाव की दस्तक दी है। भाजपा बुलंदशहर में भी मुजफ्फरनगर की तरह माहौल बिगाड़कर दंगा कराना चाहती थी। वहां षडयंत्र के तहत किसान परिवारों को पुलिस द्वारा परेशान कराया जा रहा है। जीतू फौजी भी इसी का शिकार हुआ है।' यह बातें रालोद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने अमराला गांव में कहीं। वे यहां जन संवाद कार्यक्रम के तहत जनसभा को संबोधित करने पहुंचे थे।

अच्छे दिन आने की आस में बीत गए कई साल
उन्होंने भाजपा को जालिम और अहंकारी सरकार बताते हुए कहा कि किसान आशावादी हैं। अच्छे दिन आने की उम्मीद में सालों बीत गए। किसान को उसकी फसल का भाव नहीं मिल रहा, गन्ने का भुगतान नहीं मिल रहा, आमदनी दोगुनी की बात भी हवा-हवाई निकली। ऐसे में किसान की आशा निराशा में बदल रही है और वह आत्महत्या जैसा कदम उठा रहा है।

पुलिस को संसाधन मुहैया कराने होंगे

रालोद नेता ने पुलिस की वकालत करते हुए कहा कि सरकार को एनकाउंटर कराने की बजाय पुलिस को संसाधन मुहैया कराने होंगे। पुलिसकर्मियों से 24 घंटे की बजाय 8 घंटे ड्यूटी करानी होगी। इससे जहां अपराध में कमी आएगी। बल्कि गांवों में युवाओं को रोजगार भी मिलेगा।

योगी आदित्यनाथ सीएम पद के लिए नाकाबिल
सरकार पर चौतरफा हमला करते हुए जयंत ने कहा कि पिछले दिनों किसानों को दिल्ली में घुसने से रोका गया। उन्होंने योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री पद के लिए नाकाबिल करार दिया। पूर्व विधायक सुदेश शर्मा ने कहा कि देश में कानून का राज नहीं है। चारों तरफ भ्रष्टाचार का बोलबाला है। ऐसे में एकजुट और जागरूक होकर व्यवस्था को बदलने की जरूरत है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस