नई दिल्ली, एएनआइ/प्रेट्र। जामिया मिल्लिया इस्लामिया में छात्रों के खिलाफ पुलिसिया कार्रवाई के कुछ वीडियो क्लिप सामने आने के बाद आम आदमी पार्टी ने दिल्ली पुलिस और केंद्र सरकार की आलोचना की है। 15 दिसंबर के जामिया की घटना पर संजय सिंह ने मंगलवार को एएनआइ से कहा कि लाइब्रेरी में छात्रों पर लाठीचार्ज पुलिस की क्रूरता को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि यह कौन सा कानून है जिसके तहत पुलिस छात्रों की पिटाई कर रही है।

उधर, भाजपा ने कांग्रेस पर जामिया की घटना को राजनीतिक रंग देने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह हमेशा देश-विरोधी तत्वों का समर्थन करती है। वहीं, कांग्रेस ने सरकार पर पुलिस बल का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया है।

जामिया समन्वय समिति ने जारी किया था वीडियो

जामिया समन्वय समिति ने रविवार को एक सीसीटीवी फुटेज जारी किया था, जिसमें सुरक्षाकर्मी लाइब्रेरी में छात्रों पर लाठियां बरसाते नजर आ रहे हैं। इसके कुछ देर बाद एक अन्य वीडियो सामने आ गया, जिसमें हाथों में पत्थर और नकाब पहने उपद्रवी छिपने के लिए लाइब्रेरी में घुसते नजर आ रहे हैं। दूसरा वीडियो दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच का है जो लीक हो गया है।

भाजपा प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा, ‘कांग्रेस समाज विरोधी तत्वों और हिंसा फैलाने वालों का समर्थन कर रही है। उसने देश के सुरक्षा बलों और पुलिस के जवानों के खिलाफ आवाज उठाई हैं।’ राव ने कहा कि छात्र नकाब क्यों लगाए हैं और हाथों में पत्थर लेकर वे कौन सी पढ़ाई कर रहे हैं।

भाजपा पर पलटवार करते हुए कांग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने कहा कि उसने पुलिस बल का दुरुपयोग किया है। अदालत की निगरानी में जामिया हिंसा की जांच कराई जानी चाहिए। कपिल सिब्बल ने भी सरकार पर निशाना साधा है। रविवार को प्रियंका गांधी ने भी सरकार पर हमला किया था और कहा था कि अगर सरकार इस पर कोई कार्रवाई नहीं करती है तो उसकी नीयत देश के सामने आ जाएगी।

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस