नई दिल्ली [संतोष कुमार सिंह]। पाकिस्तानी आतंकी हाफिज सईद के नजदीकी और खालिस्तान समर्थक गोपाल सिंह चावला के साथ दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (Delhi Sikh Gurdwara Management Committee) के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल होने से दिल्ली की सिख सियासत गर्मा गई है। इसे लेकर वह विरोधियों के निशाने पर आ गए हैं। वहीं, मचे बवाल पर सिरसा ने सफाई दी है कि जबरन उनका फोटो खींचकर सोशल मीडिया पर डाला गया है। इसके बावजूद दिल्ली से लेकर पंजाब तक इस मामले में हंगामा तय माना जा रहा है। 

बता दें कि श्री गुरु नानक देव जी के 550वें प्रकाश पर्व को समर्पित एक नगर कीर्तन पाकिस्तान स्थित ननकाना साहिब से दिल्ली आएगा। एक अगस्त से शुरू होने वाले इस नगर कीर्तन में शामिल होने के लिए सोमवार को मनजिंदर सिंह सिरसा की अगुआई में दिल्ली से एक जत्था पाकिस्तान गया। वहां पहुंचने के साथ ही डीएसजीपीसी अध्यक्ष विवाद में आ गए हैं।

पाकिस्तान स्थित गुरुद्वारा ननकाना साहिब में दोनों की मिलने की तस्वीर हुई वायरल

मंगलवार को सोशल मीडिया पर उनकी एक फोटो चावला के साथ वायरल हो गई, जिसे लेकर उनकी आलोचना हो रही है। वहीं, देर शाम डीएसजीपीसी के अध्यक्ष ने एक वीडियो और बयान जारी कर बताया कि उन्हें बदनाम करने की साजिश की गई है।

नवजोत सिंह सिद्धू भी हुए थे आलोचना के शिकार
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुए कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू की फोटो भी इस खालिस्तान समर्थक के साथ वायरल हुई थी, जिस कारण उनकी खूब आलोचना हुई थी। खुद सिरसा ने उस फोटो को सोशल मीडिया पर शेयर करके उन्हें आड़े हाथों लिया था।

पाक गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का रह चुका है महासिचव
खालिस्तान समर्थक चावला पाकिस्तान गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का महासचिव रह चुका है। करतारपुर कॉरिडोर को लेकर भारत व पाक प्रतिनिधियोें के बीच पिछले दिनों वाघा बॉर्डर पर हुई बातचीत में उसके शामिल होने की भी चर्चा थी, लेकिन वार्ता से पहले पाक सरकार ने उसे महासिचव पद से हटा दिया था। कहा जाता है कि भारत के एतराज की वजह से उसे पद से हटाया गया था।

मनजिंदर सिंह सिरसा (डीएसजीपीसी अध्यक्ष) की मानें तो गुरुद्वारा ननकाना साहिब परिसर के एक कमरे में मैं चाय पी रहा था। उसी समय चावला वहां पहुंचकर मुझसे मिलने की कोशिश की, लेकिन मैंने मिलने से इनकार करते हुए कमरे से बाहर आ गया। उसके बाद वह जबरन मेरे पस पहुंचा और उसके अंगरक्षक ने फोटो खींचकर सोशल मीडिया पर डाल दिया। मैं देशविरोधी लोगों से कभी भी नहीं मिल सकता हूं।’

वहीं, मनजीत सिंह जीके (डीएसजीपीसी के पूर्व अध्यक्ष) का कहना है कि चावला खालिस्तान समर्थक है। पिछले वर्ष 25 अगस्त को जब अमेरिका में मेरे ऊपर हमला हुआ था तो वह भांगड़ा किया था। उसने चेतावनी दी थी कि इस बार तो जीके बच गया, लेकिन अगली बार उसे डब्बे में बंद करके भेजा जाएगा। वह हमेशा भारत विरोधी बातें करता है। यदि ऐसे लोगों से सिरसा मिले हैं तो इसे जायज नहीं ठहराया जा सकता है। 

उधर, इस मामले में आरपी सिंह (भाजाप के राष्ट्रीय मंत्री) ने कहा है कि सिरसा ने सफाई दे दी है, लेकिन उन्हें सचेत रहने की जरूरत है। पाकिस्तान में उन्हें किससे मिलना है और कैसा व्यवहार करना है इसका ख्याल रखना चाहिए जिससे कि लोगों में कोई गलत संदेश नहीं जाए। चावला खालिस्तान समर्थक होने के साथ ही कश्मीर को भी भारत से अलग करने की बात करता है। आतंकी हाफिज सईद का भी नजदीकी है। ऐसे लोगों से किसी तरह का संबंध नहीं रखा जा सकता है।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस