नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। JNU Violence case : दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में 5 जनवरी की शाम को हुई हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस ने जांच की कड़ी में छात्र चुनचुन कुमार और डोलन सामंता को पूछताछ के लिए नोटिस भेजा है। वहीं, फॉरेंसिक टीम भी बुधवार को जेएनयू हिंसा की जांच के लिए पहुंचेगी। इसके अलावा,  दिल्ली पुलिस हिंसा में आरोपित आकाश अवस्थी, रोहित शाह और कोमल शर्मा की तलाश में जुटी हुई है। 

पुलिस ने जेएनयू छात्रों से की पूछताछ घायलों से भी ली घटना की जानकारी

इससे पहले जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) हिंसा मामले में क्राइम ब्रांच की एसआइटी ने मंगलवार को जेएनयू पहुंचकर सुचेता तालुकदार और प्रिया रंजन कुमार से करीब दो घंटे तक पूछताछ की। दोनों से अलग-अलग पूछताछ के दौरान एसआइटी ने उन्हें वीडियो फुटेज और फोटो दिखाकर उन छात्रों की पहचान करने को कहा जो ¨हसा में शामिल दिखाई दे रहे हैं। हालांकि फुटेज धुंधली होने के कारण इन्होंने किसी को भी पहचानने से इन्कार कर दिया। सुचेता ने डेढ़ पन्ने में अपना लिखित बयान भी दर्ज कराया। इससे पहले एसआइटी ने सोमवार को जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष आईशी घोष, वास्कर विजय व पंकज मिश्र से भी पूछताछ की थी। ये सभी वामपंथी छात्र संगठनों से जुड़े हैं।

बीते शुक्रवार को एसआइटी ने जेएनयू हिंसा मामले में वामपंथी छात्र संगठनों के सात व दक्षिणपंथी छात्र संगठनों के दो छात्रों की तस्वीरें जारी कर दावा किया था कि ये लोग कैंपस में पांच जनवरी को हुई हिंसा में शामिल थे। हिंसा में दो गुटों के कुल 34 छात्र घायल हुए थे। पहले एसआइटी ने तीन छात्रओं को जेएनयू में और छात्रों से कमला मार्केट स्थित क्राइम ब्रांच के कार्यालय में पूछताछ करने का निर्णय किया था। लेकिन, अब सभी से जेएनयू में ही पूछताछ की जा रही है। वहीं हिंसा में घायल चार छात्रों से भी एसआइटी ने मंगलवार को पूछताछ की और उनसेजानकारी ली।

पांच जनवरी की घटना से एक दिन पहले चार जनवरी को वामपंथी छात्र संगठनों से जुड़े छात्रों ने प्रशासनिक भवन स्थित सर्वर रूम में घुसकर तोड़फोड़ की थी। एसआइटी की एक अन्य टीम के साथ फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) की टीम ने सर्वर रूम में पूरे दिन रहकर जांच की और फुटेज प्राप्त करने की कोशिश की। टीम बुधवार को भी सर्वर रूम की जांच करेगी।

90 से ज्यादा पीसीआर कॉल

एसआइटी का कहना है कि जेएनयू ¨हसा मामले में करीब 90 से ज्यादा पीसीआर कॉल हुई थीं। पुलिस सभी पीसीआर कॉल को शॉर्टलिस्ट कर रही है। उसके बाद उन लोगों से भी पूछताछ की जाएगी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस