नई दिल्ली [सुशील गंभीर]। उन्नाव कांड में मुख्य आरोपित विधायक कुलदीप सेंगर के खिलाफ सीबीआइ ने हत्या के आरोप में आरोपपत्र दायर कर दिया है। पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में तीस हजारी अदालत पीड़ित पक्ष के वकील की दलीलों पर सेंगर के खिलाफ हत्या का आरोप तय कर चुकी है, लेकिन सीबीआइ ने पूर्व में दायर आरोपपत्र में सेंगर को हत्या का आरोपित नहीं माना था।

पीड़िता के पिता की हिरासत में मौत और उन पर झूठा केस दर्ज करने के मामले में सीबीआइ ने आरोपपत्र दायर किया था। इन आरोपपत्रों में सेंगर को आरोपित नहीं बनाया गया था। जब तीस हजारी अदालत में इन मामलों की सुनवाई शुरू हुई तो पीड़ित पक्ष के वकील धर्मेंद्र कुमार मिश्रा ने दलील दी।

पीड़ित पक्ष के वकील ने दी थी दमदार दलील

धर्मेंद्र कुमार मिश्रा ने अदालत को बताया कि पीड़िता के पिता पर झूठा केस कुलदीप सेंगर के कहने पर दर्ज हुआ। पीड़िता के पिता को हिरासत में पीटा गया, जिससे उसकी मौत हो गई। यह पूरा प्रकरण सेंगर के कहने पर हुआ तो वह आरोपित कैसे नहीं है? इन दलीलों को मानते हुए अदालत ने दोनों मामलों को जोड़कर एक कर दिया और हत्या के आरोप में कुलदीप सेंगर सहित 10 आरोपितों के खिलाफ आरोप तय कर दिए। सूत्रों के मुताबिक इसके बाद सीबीआइ को आभास हुआ कि जब सेंगर के खिलाफ अदालत ने खुद ही हत्या के आरोप तय कर दिए हैं तो आरोपपत्र दायर बेहतर रहेगा।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर उन्नाव कांड से जुड़े दुष्कर्म, सामूहिक दुष्कर्म, हत्या सहित सभी मामलों की सुनवाई तीस हजारी में सत्र न्यायाधीश धर्मेश शर्मा की अदालत में चल रही है।

क्या है पूरा मामला

दरअसल, पुलिस हिरासत में पीड़िता के पिता की मौत हो गई थी। सीबीआइ के अनुसार, पीड़िता के पिता को अवैध हथियार रखने के मामले में फंसाया गया था। पुलिसकर्मियों पर विधायक की मदद करने का आरोप है। हिरासत में पीड़िता के पिता की पिटाई हुई थी और उनके शरीर में 18 जगहों पर चोटें आयी थी। घटना के चौथे दिन उनकी मौत हो गई थी। पूरा षड्यंत्र इसलिए रचा गया ताकि पीड़िता दुष्कर्म मामले में रिपोर्ट न दर्ज करा पाए। जांच में यह बात सामने आयी कि विधायक सेंगर पुलिसकर्मियों के संपर्क में थे। सीबीआइ ने पुलिस और विधायक के बीच बातचीत का डाटा भी कोर्ट में पेश किया है।

निचली अदालत में 13 अगस्त को कुलदीप सिंह सेंगर समेत अन्य लोगों के खिलाफ हत्या, आपराधिक साजिश, झूठे सबूत, लोक सेवक की अवहेलना कानून की धारा लगाकर चार्जशीट दाखिल की गई थी। हत्या और झूठे केस के मामले में कुलदीप सिंह सेंगर और उनके भाई अतुल सेंगर, उन्नाव जिले के माखी थाने के तत्कालीन प्रभारी अशोक सिंह भदौरिया, एसआइ कामता प्रसाद, सिपाही आमिर खान समेत दस आरोपित हैं।

ये भी पढ़ेंः दिल्ली में अंतरराज्यीय हथियार तस्कर गिरफ्तार, भारी संख्या में पिस्टल और कारतूस बरामद

DTC के बेड़े में शामिल हुईं 100 नई क्लस्टर बसें, सीएम केजरीवाल ने दिखाई हरी झंडी

दिल्ली में अब महिला कांस्टेबल करेंगी पैट्रोलिंग, उत्तर-पूर्व जिले में बनाई गई स्पेशल टीम

 दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

 

Posted By: Mangal Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस