लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में प्रवासी श्रमिक-कामगारों के लिए बस मुहैया कराने के प्रस्ताव से शुरू हुई सियासत ने दिल्ली तक हंगामा खड़ा कर दिया है। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को कांग्रेस द्वारा उपलब्ध कराई गई एक हजार बसों की सूची पर विवाद खड़ा होने के बाद पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका वाड्रा ने जांच में सही पाई गई 879 बसों के लिए अनुमति मांगी है। साथ ही दो सौ बसों नई सूची बुधवार तक सरकार को उपलब्ध कराने की बात कही है। वहीं, उत्तर प्रदेश सरकार की घेराबंदी के प्रयास में कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता भी दिल्ली में सामने आ गए और पार्टी का पक्ष रखने के साथ योगी सरकार पर संवेदनहीनता के आरोप लगाए।

कांग्रेस द्वारा दी गई तमाम बसों के नंबर गलत मिलने, अनफिट पाए जाने आदि के बाद प्रियंका ने ट्वीट किया। उन्होंने लिखा- उप्र सरकार का खुद का बयान है कि हमारी 1049 बसों में से 879 बसें जांच में सही पाई गईं। ऊंचा नगला बॉर्डर पर आपके प्रशासन ने हमारी 500 से ज्यादा बसों को घंटों से रोक रखा है। इधर, दिल्ली बॉर्डर पर भी 300 से ज्यादा बसें पहुंच रही हैं। कृपया इन 879 बसों को तो चलने दीजिए। हम आपको कल 200 बसों की नई सूची दिलाकर बसें उपलब्ध करा देंगे। बेशक, आप इस सूची की भी जांच कीजिएगा। लोग बहुत कष्ट में हैं। दुखी हैं। हम और देर नहीं कर सकते। 

उधर, दिल्ली में पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला और पूर्व मंत्री राजीव शुक्ला ने पत्रकारों से बातचीत में कांग्रेस का पक्ष रखा। सुरजेवाला ने कहा कि उत्तर प्रदेश में हजारों लोग नंगे पांव रोज का अपना बोझ पीठ पर उठाए, बच्चे को गोदी में लिए पैदल चले जा रहे हैं। उनकी पीड़ा भाजपा की उत्तर प्रदेश सरकार को नजर क्यों नहीं आती? कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा और कांग्रेस के सब साथी आगे आकर 1,000 बसों का इंतजाम कर रहे हैं तो उत्तर प्रदेश की सरकार इसमें रोड़ा अटका रही है, अडंगा डाल रही है।

सुरजेवाला ने कहा कि 16 मई को प्रियंका ने योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर 500 बसें गाजीपुर बॉर्डर, गाजियाबाद और 500 बसें नोएडा बॉर्डर से चलाने की अनुमति मांगी। 48 घंटे तक योगी ने मौन धारण किए रखा। 48 घंटे के बाद 18 मई को एक पत्र अपर मुख्य सचिव ने लिखा और कहा कि मजदूरों के संदर्भ में हम आपके प्रस्ताव को स्वीकार करते हैं। आप ड्राइवरों की लिस्ट, उनके फोन नंबर और ड्राइविंग लाइसेंस दीजिए। उसी दिन घंटो के अंदर हमने ईमेल के माध्यम से वो लिस्ट दी और बकायदा पत्र लिखकर सूचित किया और कहा कि हम 19 मई को बसों को दोबारा बॉर्डर पर चलने को तैयार कर देंगे। 1096 बसों की सूची इस ईमेल के साथ अटैच की गई। पूरा दिन निकल जाता है, कोई जवाब आता नहीं है।

सुरजेवाला ने कहा कि रात को 11 बजकर 40 मिनट पर अपर मुख्य सचिव चिट्ठी लिखते हैं कि इन बसों का फिटनेस सर्टीफिकेट, ड्राइविंग लाइसेंस के साथ इन सारी बसों को सुबह 10 बजे वृन्दावन योजना लखनऊ में उपलब्ध करवाएं। हम दो घंटे के अंदर रात 2:10 पर उनको दोबारा पत्र लिखकर व्यावहारिक परेशानी बताते हैं और सवाल उठाते हैं कि बसों को लखनऊ लाने का कोई औचित्य नहीं। ये केवल समय और संसाधनों की बर्बादी होगी।

अगले दिन 11 बजकर 5 मिनट पर जवाब आता है कि अच्छा, अब लखनऊ मत भेजिए, अब आप 500 बसें नोएडा और 500 बसें गौतमबुद्ध नगर में 12 बजे तक उपलब्ध करवाएं। उसके साथ चार शर्तें भी लगा देते हैं। इसके बावजूद हम 12 बजकर 15 मिनट पर फिर पत्र लिखते हैं और कहते हैं कि कुछ बसें राजस्थान से आ रही हैं और कुछ बसें दिल्ली से। वे सारी बसें शाम पांच बजे तक हम उपलब्ध करवा देंगे और यह एक ऐतिहासिक कदम होगा, अगर उत्तर प्रदेश सरकार कांग्रेस के साथ मिलकर सेवा का ये कदम उठाएगी।

सुरजेवाला ने कहा कि इस समय 500-600 के करीब बसें दोनो बॉर्डर के ऊपर इकट्ठी हो गई हैं और प्रशासन कहता है कि हमें ऊपर से कोई सूचना ही नहीं है। इससे ज्यादा शर्म की बात किसी भी राजनीतिक दल और सरकार के लिए हो ही नहीं सकती। 

चाहे भाजपा का झंडा लगा लीजिए : राजीव शुक्ला

पूर्व मंत्री व कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने कहा कि आगरा जिले में ऊंचा नगला बॉर्डर पर 600 बसें खड़ी हैं। किसी को शक हो तो वहां जाकर देख सकता है। दिल्ली वाली बसें जगह-जगह पर खड़ी हैं। अगर एक बार परमिशन दें, परमिट दें, तब वो लोग घुसने देंगे। हम सहयोग करना चाहते हैं। शुक्ल ने कहा कि बसों पर बीजेपी का झंडा लगा लीजिए, इन बसों पर फोटो किसी का भी लगा लो, पर इनकी मदद करो। इस पर टाइम बर्बाद न करो। अगर ये सब बसें खड़ी हैं तो इनका उपयोग कर लो तो क्या है। कोई वोट पडऩे जा रहे हैं क्या।

आज शाम चार बजे तक अनुमति का इंतजार

मंगलवार देर रात प्रियंका के निजी सचिव ने अपर मुख्य सचिव गृह को पत्र लिखकर कहा कि हम यूपी के बॉर्डर पर बसों के साथ खड़े हैं। अनुमति का इंतजार बुधवार शाम चार बजे तक करेंगे।

यह भी पढ़े : सीएम योगी-प्रियंका लेटर वार : अब यूपी सरकार के पत्र का प्रियंका गांधी वाड्रा ने दिया यह जवाब...

यह भी पढ़े : श्रमिकों के लिए कांग्रेस की बसों की सूची पर नया बखेड़ा, लिस्ट में बाइक-ऑटो व कार के नंबर का दावा

यह भी पढ़े : प्रवासी श्रमिकों के लिए बसों की सूची में फर्जीवाड़ा करने पर प्रियंका वाड्रा को यूपी सरकार ने घेरा

यह भी पढ़े : यूपी में बसों पर सियासत : प्रियंका वाड्रा के निजी सचिव और यूपी कांग्रेस अध्‍यक्ष पर एफआइआर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस