उदयपुर, जेएनएन। नगर निगम उदयपुर के महापौर के लिए गुरुवार को भाजपा की ओर से जीएस टांक एवं कांग्रेस की ओर से अरूण टांक ने नामांकन पेश किए। इस तरह जूनियर टांक ने सीनियर टांक को चुनौती देकर मुकाबला रोचक बना दिया है। बहुमत में होने से जहां सीनियर टांक यानी जीएस टांक अपनी जीत को लेकर पूरी तरह आश्वस्त हैं, वहीं जूनियर अरूण टांक ने भाजपा के छह पार्षदों के  उनके साथ होने की बात कहकर उनकी धडक़न बढ़ा दी है।

भाजपा ने रिस्क लेने की बजाय अपने सभी पार्षदों को विशेष बस के जरिए गुरुवार को दिल्ली के लिए रवाना कर दिया। दिल्ली में उन्हें कहा रखा जाएगा, इसका खुलासा नहीं किया है लेकिन उनके साथ संगठन के पदाधिकारियों को भी भेजा है, जो पार्षदों की गतिविधियों पर नजर रखेंगे।

कांग्रेसी दावेदार अरूण टांक ने दावा जताया कि भाजपा के छह पार्षदों की सहमति मिलने के बाद ही उन्होंने महापौर के लिए चुनाव लड़ने के लिए पार्टी के समक्ष प्रस्ताव रखा था। उनका दावा है कि चुनाव होने तक कुछ और भाजपाई पार्षद उनके समर्थन में आ जाएंगे। इधर, भाजपा ने अरूण टांक को दावे को झूठा बताया है।

उन्होंने कहा कि सभी भाजपाई पार्षद संगठन के साथ मजबूती से खड़े होने वाले सेवक हैं। उन्हें तोड़ा नहीं जा सकता। फिर भी भाजपा ने अपने सभी पार्षदों को गुरुवार सुबह विशेष बस के जरिए दिल्ली के लिए रवाना कर दिया। उनके साथ संगठन के पदाधिकारियों को भेजा गया है, जो उनकी गतिविधियों पर नजर रखेंगे। जबकि महापौर के दावेदार जीएस टांक उदयपुर में बने हुए हैं।

उन्होंने कहा कि वह अपनी ही नहीं, बल्कि सभी 70 पार्षदों को साथ लेकर शहर के विकास के लिए काम करना चाहते हैं। उन्हें विश्वास है कि उन्हें भाजपा ही नहीं, बल्कि अन्य पार्षदों का भी साथ मिलेगा। 

 जानकारी हो कि राजस्थान में उदयपुर नगर निगम के लिए महापौर के लिए भारतीय जनता पार्टी की ओर से गोविंद सिंह टांक तथा कांग्रेस की ओर से अरुण टांक ने पार्टी नेताओं की मौजूदगी में गुरुवार को नामांकन भरा।नामांकन से पहले भाजपा पार्षदों की बैठक राजस्थान विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने ली। इसके बाद साढ़े ग्यारह बजे कटारिया, भाजपा जिलाध्यक्ष रविन्द्र श्रीमाली, उदयपुर ग्रामीण विधायक फूलसिंह मीणा तथा भाजपा के अन्य जिला पदाधिकारियों के साथ महापौर के पार्टी प्रत्याशी गोविंद सिंह टांक नगर निगम पहुंचे। जहां उन्होंने अपना नामांकन पत्र भरा।

इधर, कांग्रेस की ओर से दावेदार अरुण टांक ने कांग्रेस नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. गिरिजा व्यास, शहर जिलाध्यक्ष कृष्ण गोपाल शर्मा, पूर्व विधायक त्रिलोक पूर्बिया एवं अन्य कांग्रेसी जनप्रतिनिधियों के साथ नगर निगम पहुंचे तथा अपना नामांकन पत्र भरा। गौरतलब है कि सत्तर सीटों की नगर निगम में भाजपा 44 सीटें जीतकर बहुमत हासिल कर चुकी है। जबकि कांग्रेस को बीस सीट मिली हैं।यह भी पढ़ेंः समधी को नहीं जिता पाए गुलाब चंद कटारिया, गिरिजा व्यास ने मानी हार

यह भी पढ़ेंः Firoz Khan BHU: जानें- कौन हैं फिरोज खान, जिनकी नियुक्‍ति पर बीएचयू में मचा है बवाल

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस