पटना [जेएनएन]। नागरिकता संशोधन कानून (CAA) व राष्‍ट्रीय नागरिक रजिस्‍टर (NRC) पर जनता दल यूनाइटेड (JDU) के प्रधान महासचिव केसी त्‍यागी (KC Tyagi) की राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की बैठक की मांग के बाद अब पार्टी के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष प्रशांत किशोर (PK) ने भी बड़ा बयान दिया है। भारतीय जनता पार्टी (BJP) के लाइन के खिलाफ जाकर उन्‍होंने सभी गैर बीजेपी शासित राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों (Chief Ministers) से आह्वान किया है कि वे अपने-अपने राज्‍यों में सीएए-एनआरसी लागू नहीं होने दें।

केसी त्‍यागी बोले: प्रस्‍ताव पर पहले हो एनडीए की बैठक

विदित हो कि सीएए व एनअारसी पर विवाद गहराने के बाद जेडीयू की तरफ से राष्‍ट्रीय महासचिव केसी त्‍यागी (KC Tyagi) ने कहा कि एनआरसी के प्रस्‍ताव पर प्रधानमंत्री (Prime Minister) नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को पहल कर एनडीए की बैठक बुलानी चाहिए। इस मुद्दे पर जनता को विश्‍वास में लेना चाहिए। शनिवार को इस मुद्दे पर बिहार में राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) के बिहार बंद (Bihar Bandh) काे लेकर उन्‍होंने कहा कि जब मुख्‍यमंत्री (Chief Minister) नीतीश कुमार (Nitish Kumar) कह चुके हैं कि राज्‍य में एनआरसी लागू नहींं होगा तो ऐसे में आंदोलन की जरूरत नहीं है। केसी त्‍यागी के एनआरसी के विरोध में उक्‍त बान के बाद रविवार को पार्टी के उपाध्‍यक्ष प्रशांत किशोर ने बयान दिया है।

प्रशांत किशोर ने बताया सीएए-एनआरसी लागू नहीं होने देने के तरीके

प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने ट्वीट कर सीएए-एनआरसी को लागू होने से रोकने के तरीके बताए हैं। उन्‍होंने लिखा है कि लोग सभी प्लेटफॉर्म पर आवाज उठाते हुए शांतिपूर्ण विरोध जारी रखें। इसके अलावा सभी गैर बीजेपी शासित 16 राज्‍यों के मुख्‍यमंत्री अपने-अपने राज्यों में एनआरसी को नकार दें।

सीएए व एनआरसी के खिलाफ प्रशांत किशोर पहले भी देते रहे बयान

प्रशांत किशोर इसके पहले भी सीएए व एनआरसी के खिलाफ बयाने देते रहे हैं। बीते दिनों उनके बयानों की बीजेपी ने आलोचना की थी, साथ ही पार्टी के भीतर भी आलोचना हुई थी। बताया जाता है कि इसके बाद उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री व जेडीयू सुप्रीमो नीतीश कुमार से मिलकर अपना इस्‍तीफा सौंप दिया था, जिसे नीतीश कुमार ने अस्‍वीकार कर दिया था। इसके बाद प्रशांत किशोर ने कहा था कि वे सीएए नहीं, एनआरसी के खिलाफ हैं। उन्‍होंने कहा था कि सीएए के साथ मिलकर एनआरसी का प्रभाव घातक होगा।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस