जम्मू,  राज्य ब्यूरो। आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तौएबा भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष रविंद्र रैना पर हमले की फिराक में है। खुफिया एजेंसियों को इस तरह का इनपुट मिलते ही उन्होंने रैना को भी सतर्कता बरतने की हिदायत दी है। सूचना है कि एक दिसंबर को लश्कर के तीन आतंकवादी जम्मू में घुसपैठ भी कर चुके हैं।

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष रविन्द्र रैना ने दैनिक जागरण के समक्ष पुष्टि की कि लश्कर की साजिश के मद्देनजर उन्हें खुफिया एजेंसियों ने सर्तकता बरतने के निर्देश दिए हैं। हालांकि रैना ने जोड़ा कि वह आतंकवादियों की साजिशों से डरने वाले नहीं हैं।

तीनों आतंकियों की हुई पहचान

रविंद्र रैना पर हमले की साजिश रच रहे आतंकियों की सुरक्षा एजेंसियों ने पहचान भी कर ली है। इनमें से एक गुलाम कश्मीर का गाजी बाबा है और शेष दो कश्मीरी हैं। दोनों बांडीपोर जिले के नसीर अहमद डार और मोहम्मद सलीम बताए जा रहे हैं।

दूसरी बार जारी हुआ है अलर्ट

रैना पर आतंकवादी हमले की आशंका का दूसरी बार अलर्ट जारी हुआ है। इससे पहले जून माह में रैना को हिजबुल मुजाहिदीन की धमकी मिलने के बाद उनकी सुरक्षा की नए सिरे से समीक्षा की कई थी। गृहमंत्रालय के अधिकारियों ने रैना के गांधीनगर स्थित आवास पर सीसीटीवी की फुटेज खंगाली थी। यह सूचना मिली थी आतंकवादियों ने उनके आवास की रेकी भी की है।

आतंकी तारिक ने 90 हजार में खरीदी थी आंतकी बंदूक

जम्मू संभाग के किश्तवाड़ के इखाला में मंगलवार को मुठभेड़ में घायल हालत में पकड़े गए हिजुबल मुजाहिदीन के आंतकी तारिक हुसैन से कुछ खुलासे हुए हैं। हालांकि वह अभी अस्पताल में भर्ती है।

सूत्रों के अनुसार तारिक ने आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के लिए 303 बोर की बंदूक 90 हजार रुपये में खरीदी थी। यह बंदूक पहले दक्षिण इलाके के ही किसी स्थानीय व्यक्ति के पास थी। इसका लाइसेंस नहीं होने से बंदूक को घर में छुपा रखा था। बाद में बंदूक उसी गांव के किसी दूसरे व्यक्ति को 70 हजार में बेच दी। आगे यही बंदूक आंतकी बन चुके तारिक को 90 हजार रुपये में बेच दी। तारिक को सुरक्षाबलों ने इसी बंदूक के साथ दबोच लिया। पुलिस उन लोगों से भी पूछताछ कर रही है जिन्होंने बंदूक को खरीदा और बेचा।

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस