कोलकाता, राज्य ब्यूरो। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने एक बार फिर चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में हालात सामान्य करने को लेकर ममता बनर्जी सरकार की कार्यशैली पर सवाल खड़ा किया है। उन्होंने कहा कि अगर 3 दिन पहले ही आर्मी बुला ली गई होती तो हालात सामान्य होते। एक दिन पहले शनिवार को भी राज्यपाल ने पश्चिम बंगाल सरकार की तैयारियों पर सवाल खड़ा किया था। उन्होंने पूछा था कि आखिर जब मौसम विभाग ने 15 दिन पहले ही चक्रवात की सूचना दे दी थी तब बंगाल सरकार ने इसके घातक प्रभावों से निपटने की पूरी तैयारी क्यों नहीं की थी

राज्यपाल ने रविवार को दो ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने लिखा कि राज्य में चक्रवात प्रभावित क्षेत्र के लोगों की दुर्दशा देखकर काफी दुखी हूं। मूलभूत जरूरतों की कमी की वजह से लोग काफी परेशान हैं। मेरी अपील है कि जो भी सरकारी एजेंसीज हैं, वे अतिरिक्त सुविधाओं के साथ राहत और बचाव कार्य में जुट जाएं। लोगों को भी थोड़ा धैर्य रखना होगा।

अपने ट्वीट में राज्यपाल ने यह भी बताया कि उन्होंने राजभवन के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश दिया है कि जब तक कोलकाता में हालात सामान्य ना हो जाएं तब तक उन्हें ड्यूटी पर आने की जरूरत नहीं है। मुख्यमंत्री से उन्होंने राजभवन को हालात के बारे में जानकारी देते रहने की भी अपील की है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी इशारा किया है कि बंगाल सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ नुकसान का असली आंकड़ा शेयर नहीं कर रही है।

राज्यपाल ने अपने ट्वीट में लिखा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मेरी अपील है कि प्रधानमंत्री दफ्तर के साथ केवल असली आंकड़ा शेयर करें ताकि प्रभावी मदद मिल सके।

उल्लेखनीय है कि एक दिन पहले शनिवार को भी राज्यपाल ने पश्चिम बंगाल सरकार की तैयारियों पर सवाल खड़ा किया था। उन्होंने पूछा था कि आखिर जब मौसम विभाग ने 15 दिन पहले ही चक्रवात की सूचना दे दी थी तब बंगाल सरकार ने इसके घातक प्रभावों से निपटने की पूरी तैयारी क्यों नहीं की थी?

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस