मुंबई, एएनआइ। मुंबई में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) के विरोध में विपक्ष गांधी शांति यात्रा (Gandhi shanti Yatra) निकाल रहा है। इस विरोध मार्च (Protest) में पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा (Yashwant Sinha), एनसीपी प्रमुख शरद पवार (Sharas Pawar), भाजपा के पूर्व नेता शत्रुघ्न सिन्हा और कांग्रेस के पृथ्वीराज चौहान जैसे कई बड़े नेता शामिल हैं। 

सीएए और एनआरसी के विरोध में निकाली जा रही इस यात्रा को मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। 21 दिन तक चलने वाली ये यात्रा मुंबई से दिल्ली की तरफ प्रस्थान करेगी। गेटवे ऑफ इंडिया से प्रारंभ हो चुकी ये यात्रा, 30 तारीख को दिल्ली के राजघाट पर समाप्त होगी। 

गौरतलब है कि गांधी शांति में शामिल हुए एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने अभी कुछ दिन पहले ही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिख राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण तथा नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में प्रदर्शन का समर्थन किया था। बता दें कि पूरे देश में ही एनआरसी और सीएए को लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहा है। जिसमें युवाओं के साथ-साथ राजनीतिक पार्टियां भी सहयोग कर रही हैं।  

महाराष्ट्र में नए राजनीतिक समीकरण के संकेत, फड़नवीस और राज ठाकरे के बीच लंबी बैठक

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राज्य भर में एनआरसी को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रही हैं। एनआरसी पर विरोध जताते हुए ममता बनर्जी ने कहा है कि मैं जब तक जिंदा हूं इसका विरोध करती रहूंगी और किसी भी कीमत पर एनआरसी लागू नहीं होने दूंगी। ज्ञात हो कि देश भर में एनआरसी की खबरें लगातार आती रही हैं। इन प्रदर्शनों के दौरान कई लोगों की मौत भी हो चुकी है।

WATCH : गुजरात में सिलेंडर से भरा ट्रक पलटने के बाद हुए कई धमाके , मंजर देख खड़े हो जाएंगे रोंगटे

भाजपा नेता ने कहा दीपिका पादुकोण का जेएनयू दौरा दुर्भाग्यपूर्ण

 

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस