लखनऊ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में बीते पांच दिन से तेजी से पांच पसार रहे कोरोना वायरस के संक्रमण पर अंकुश लगाने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी कमर कस ली है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने सरकारी आवास पर इन दिनों काफी व्यस्त हैं और अधिकारियों के साथ लगातर बैठक कर रहे हैं। चिकित्सा के साथ ही खाद्य-रसद तथा परिवहन की व्यवस्था पर उनकी खास नजर है।

लखनऊ में शनिवार को भी वह सुबह से ही अधिकारियों की फौज के साथ बैठक में लगे थे। मुख्यमंंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि अन्य प्रदेशों में रह रहे उत्तर प्रदेश के लोगों को लॉकडाउन के कारण चिंता करने की जरूरत नहीं है।

अधिकारियों को निर्देश- प्रदेश में कोई न रहे भूखा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश सरकार कोविड-19 के खिलाफ टीम भावना से कार्य कर रही है। अब प्रदेश में 11 कमेटियां समितियां पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रहीं हैं। मुख्यमंत्री योगी अदित्यनाथ ने जिलाधिकारियों को भी इसी प्रकार जिला स्तर पर भी समिति गठित करने के निर्देश दिए हैं। जिससे बेहतर समन्वय के साथ इस महामारी से निपटा जा सके। उन्होंने कालाबाजारी, मुनाफाखोरी तथा जमाखोरी करने वालों के खिलाफ आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत कार्यवाही करने को कहा। सड़क पर कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं दिखना चाहिए। मुसहर, थारू, वनवासियों को खाद्यान्न उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। मुसहर, थारू, वनवासियों को भी खाद्यान्न उपलब्ध कराया जा सके। मुख्यमंत्री ने मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों, पुलिस अधिकारियों तथा मुख्य चिकित्साधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से कोरोना के प्रभावी नियंत्रण, लॉकडाउन के क्रियान्वयन तथा निर्धन वर्ग को शासन से प्रदान की जा रही राहत की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गरीब कल्याण पैकेज की घोषणा की है। इसके माध्यम से देश के 80 करोड़ से अधिक लोगों को आच्छादित किया गया है।

जिलाधिकारियों को सख्त निर्देश

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पिछले एक सप्ताह के दौरान प्रदेश में विभिन्न राज्यों से आए हुए लोगों की सूची 28 मार्च, 2020 तक कृषि उत्पादन आयुक्त को उपलब्ध करा दी जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी जिलाधिकारी यह सुनिश्चित करें कि प्रदेश में कहीं का कोई भी नागरिक हो उसे पूरी सुरक्षा व भोजन की व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए लॉक डाउन का प्रभावी क्रियान्वयन आवश्यक है। इसके दृष्टिगत प्रशासन तथा पुलिस के अधिकारी संयुक्त रूप से पेट्रोलिंग करें तथा पब्लिक को एड्रेस करें। उन्होंने कहा कि लोगों को यह बताना आवश्यक है कि कोरोना से बचाव ही सबसे बड़ा हथियार है।

विदेश से आए लोगों कों उपलब्ध कराएं वस्तुएं

मुख्यमंत्री ने नेपाल से जुड़े जनपदों के अधिकारियों को भी निर्देशित किया कि सड़क पर किसी भी प्रकार की भीड़ न मिले। सभी जिलाधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि वे अपने जनपदों में विदेश से आये हुए लोगों को चिन्हित कर उन्हें आवश्यकतानुसार उपचारित करवाने का कार्य करें।

उन्होंने यह भी कहा कि जिलों में लेवल-1, लेवल-2 तथा लेवल-3 स्तर के अस्पतालों की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। राज्य सरकार ने विधायक निधि के दिशानिर्देशों में संशोधन करते हुए कोरोना के उपचार तथा बचाव के लिए इसका उपयोग किये जाने की व्यवस्था की है। सभी जिलाधिकारी प्रभावी पहल करते हुए अपने जनपद में इसके माध्यम से व्यवस्थाओं को बेहतर बनाएं।

जो जहां है, वहीं रुके : योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना संक्रमण के खिलाफ जारी जंग में सबसे अपील की है कि लॉकडाउन की अवधि तक जो जहां है, वहीं रुके। पैदल चलकर अपने गंतव्य तक जा रहे श्रमिकों और छात्रों से उन्होंने ऐसा न करने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश से गुजरने वाले श्रमिक चाहे उत्तर प्रदेश के हों या अन्य राज्यों के, राज्य सरकार उनकी हर सुविधा का ख्याल रखेगी। मुख्यमंत्री ने इसके लिए जिलाधिकारियों को जवाबदेह बनाया है।

लॉकडाउन की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि मौजूदा हालात में जो जहां है, वहीं रुकने में उसके परिवार और सबकी भलाई है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने विद्यालयों, धार्मिक स्थलों और सामुदायिक केंद्रों में श्रमिकों के ठहरने की व्यवस्था करने के साथ उनके लिए भोजन, पानी और अन्य सुविधाओं का इंतजाम करने का निर्देश जिलाधिकारियों को दिया। वाराणसी सहित प्रदेश के विभिन्न तीर्थ स्थानों पर फंसे अन्य राज्यों के तीर्थयात्रियों के लिए भी भोजन व सुरक्षा आदि की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

दूसरे राज्यों के मुख्यमंत्रियों से की बात

योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार महाराष्ट्र, उत्तराखंड और हरियाणा समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों से फोन पर बातचीत की। उनसे उत्तर प्रदेश के नागरिकों को सभी तरह की सुविधाएं मुहैया कराने को कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार इसका पूरा खर्चा उठाने को तैयार है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के लिए बनाएं कार्ययोजना

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत घोषित सभी सुविधाएं प्रदेशवासियों को मुहैया कराने के लिए तैयारी करने का निर्देश दिया है। केंद्र व राज्य सरकार द्वारा वृद्धावस्था, निराश्रित विधवा और दिव्यांगजन पेंशन योजनाओं की पात्रता में अंतर को देखते हुए सभी लाभार्थियों को लाभ दिलाने के लिए कार्ययोजना तैयार करने का निर्देश दिया।

नोएडा में अतिरिक्त मेडिकल टीम भेजें

योगी ने नोएडा में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या बढऩे पर वहां अतिरिक्त मेडिकल टीमें भेजने का निर्देश दिया। वहां मरीजों की संख्या बढऩे के कारणों का पता लगाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने नोएडा और गाजियाबाद में कोरोना वायरस की जांच की सुविधा निजी क्षेत्र में भी उपलब्ध कराने का निर्देश दिया।

कालाबाजारी, जमाखोरी रोकें

मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन के दौरान सब्जी, दूध और राशन जैसी आवश्यक वस्तुओं की होम डिलीवरी पर खास जोर देने को कहा है। अधिकारियों को उन्होंने कालाबाजारी, जमाखोरी और मुनाफाखोरी पर अंकुश लगाने के साथ संबंधित लोगों पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैैं। शिकायत सही मिलने पर माल जब्त करने की भी हिदायत दी गई है। 

नोडल प्रशासनिक अफसर तैनात

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने देश के 12 अन्य राज्यों में रह रहे उत्तर प्रदेश के लोगों को सभी तरह की सुविधाएं दिलाने के लिए राज्यों के लिए एक-एक नोडल प्रशासनिक अफसर तैनात करने का निर्देश दिया। इन राज्यों में महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश-तेलंगाना, कर्नाटक, पंजाब, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, हरियाणा, बिहार, गुजरात, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश और दिल्ली शामिल हैं।

इन 12 राज्यों के लिए जो नोडल प्रशासनिक अफसर तैनात किए गए हैं, वे संबंधित राज्य के अधिकारियों से समन्वय स्थापित कर वहां रह रहे यूपी के नागरिकों को हर तरह की सुविधाएं मुहैया कराने का काम करेंगे। प्रत्येक नोडल अफसर के साथ एक आइपीएस अधिकारी को भी तैनात किया गया है, जो इन राज्यों में उप्र के नागरिकों की समस्याओं का लगातार समाधान करेंगे।

नोडल प्रशासनिक अफसर

-महाराष्ट्र - नितिन रमेश गोकर्ण, प्रमुख सचिव लोक निर्माण

-आंध्र प्रदेश और तेलंगाना - टी.वेंकटेश, प्रमुख सचिव सिंचाई

-कर्नाटक - विजय किरन आनंद, महानिदेशक स्कूल शिक्षा

-पंजाब - अरविंद कुमार, प्रमुख सचिव ऊर्जा

-पश्चिम बंगाल - कुमार कमलेश, अपर मुख्य सचिव नियोजन

-राजस्थान - बाबूलाल मीणा, प्रमुख सचिव उद्यान

-हरियाणा - आलोक कुमार, प्रमुख सचिव औद्योगिक विकास

बिहार - मनोज सिंह, प्रमुख सचिव समाज कल्याण

-गुजरात - दीपक कुमार, प्रमुख सचिव आवास एवं नगर विकास

-उत्तराखंड - अनिल कुमार, प्रमुख सचिव होमगार्ड्स

-मध्य प्रदेश - समीर वर्मा, सचिव लोक निर्माण

-दिल्ली - स्थानिक आयुक्त पीके सारंगी

नोडल पुलिस अफसर

-महाराष्ट्र- एसबी शिरोड़कर, एडीजी अभिसूचना

-कर्नाटक - संजय सिंघल, एडीजी रेलवे

-पंजाब - विजय प्रकाश, आइजी फायर सर्विसेज

-पश्चिम बंगाल - नवनीत सिकेरा, आइजी मुख्यालय लखनऊ

-राजस्थान - ज्योति नारायण, आइजी कानून व्यवस्था

-हरियाणा -रामकुमार, एडीजी पीएसी

बिहार - अशोक कुमार सिंह, एडीजी यातायात

-गुजरात - डीके ठाकुर, एडीजी एटीएस

-उत्तराखंड - प्रवीण कुमार, आइजी मेरठ परिक्षेत्र

-मध्य प्रदेश - दीपक रतन, आइजी यातायात। 

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस