लखनऊ, जेएनएन। कोरोना वायरस संक्रमण के कारण लॉकडाउन में भी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पांच लाख से अधिक प्रवासी कामगार/श्रमिकों को काम देंगे। मुख्यमंत्री ने शनिवार को टीम-11 के साथ कोरोना वायरस संक्रमण की समीक्षा के दौरान बैठक में मौजूद अधिकारियों को सभी प्रवासी कामगार व श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए शीघ्र ही वृहद कार्ययोजना बनाने का निर्देश दिया।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पांच लाख से अधिक लाख प्रवासी श्रमिक/ कामगारों की चुनौती को अवसर में बदला जाएगा। पहले तो सभी की सुरक्षित वापसी हो फिर लेबर रिफार्म कानून के जरिए गांवों व कस्बों में ही नौकरियां रोजगार देने की योजना को मूर्त रूप दिया जाए। उन्होंने कहा कि लाखों श्रमिक/कामगारों का हर क्वॉरंटीन सेंटरों में ही स्किलिंग डाटा तैयार करने किया जाए। उन्होंने कहा कि अभी तक आठ लाख प्रवासी श्रमिक/कामगार उत्तर प्रदेश पहुंच चुके हैं। पिछले तीन दिनों में 80 ट्रेनों से करीब सवा लाख कामगार उत्तर प्रदेश में अपने जिलों में पहुंच चुके हैं। अभी बाकी लोग 35 ट्रेन से आज या कल तक पहुंचेंगे। प्रतिदिन 35 से 40 ट्रेनों से प्रवासी कामगार व श्रमिक प्रदेश वापस आ रहे हैं।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सभी प्रवासी कामगार/श्रमिकों को नौकरी देने के लिए हम लेबर रिफार्म कानून ला रहे हैं। लेबर रिफार्म से सभी प्रवासी श्रमिकों/कामगारों को बड़ा फायदा होगा और रोजगार सृजन की व्यापक संभावनाएं बढेंगी। इसके साथ यूपी की अर्थव्यवस्था भी तेजी से दौड़ेगी। लेबर रिफार्म में हर कामगार / श्रमिक को रोजगार/ नौकरी के साथ ही न्यूनतम 15 हजार रूपए वेतन की गारंटी के साथ उसके काम के घंटों की गारंटी तथा सुरक्षा की गारंटी भी होगी।

महिला कामगार/श्रमिकों के लिए महिला सुरक्षा कानून

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि महिला कामगार/श्रमिकों के लिए महिला सुरक्षा कानून के तहत सुरक्षा की गारंटी की व्यवस्था भी होगी। नई इकाइयों के साथ ही पुरानी इकाइयों में भी नई भॢतयों में लेबर रिफार्म कानून लागू होगा। महिला स्वयं सहायता समूह के लिए व्यापक स्तर पर प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किए जाएं। डिटर्जेंट के कारोबार के साथ ही साथ इत्र, एग्री प्रोडक्ट्स, धूप बत्ती, अगरबत्ती, फूड पैकेजिंग और गौ आधारित कृषि के उत्पादों के साथ फूल आधारित उत्पादों तथा कंपोस्ट खाद आदि के कारोबार पर रणनीति भी तैयार की जाए।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिया कि कामगार/श्रमिकों के साथ ही महिला स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से भी नौकरी व रोजगार पैदा करने की रणनीति बने। सरकार का फोकस रेडीमेड गार्मेंट के साथ ही तमाम उद्योगों का हब बनाने पर भी हैं। योगी सरकार फोकस बड़े उद्यमों के साथ ही साथ बांग्लादेश, वियतनाम जैसे देशों की तुलना में बेहतर सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों का बड़ा हब बनाने में है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने इन सभी की सुरक्षित व सम्मानजनक वापसी के साथ ही पूरी मदद के निर्देश दिए हैं। इनके साथ ही विदेशों में फंसे प्रवासी कामगार/श्रामिकों को भी आज शारजाह से लेकर पहली फ्लाइट लखनऊ पहुंचेगी। इसमें उत्तर प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों के कामगार और श्रमिक मौजूद आ रहे हैं जो रोजगार के लिए खाड़ी देश गए थे। सरकार सभी प्रवासी श्रमिक/कामगारों को स्वास्थ्य जांच के पश्चात सरकारी क्वारंटीन सेंटरों में भेज रही है। इसके बाद सभी को राशन पैकेट व भरण पोषण भत्ता देकर होम क्वारंटीन में भेजा जा रहा है।

प्रदेश के सभी श्रमिक/कामगार का क्वारंटीन काल पूरा होते ही सरकार उन सभी के रोजगार और नौकरी की व्यवस्था करेगी। इनको क्षमता के अनुसार मनरेगा, ईंट भट्ठों के अलावा चीनी मिलों और एमएसएमई सेक्टरों में रोजगार देने की योजना बनी है। इनमें भी जिनमें बीमारी के थोड़े भी लक्षण हैं उन्हें उपचार के लिए कोविड अस्पतालों में भेजा जा रहा है।

समझी जाए कोरोना की कैमिस्ट्री

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना की केमिस्ट्री को समझते हुए ट्रीटमेंट करने की आवश्यकता है। आप सभी आयुष कवच कोविड एप का व्यापक प्रचार-प्रसार करें। लोगों को इसे डाउनलोड करने के लिए प्रोत्साहित करें। प्रदेश में कोविड-19 के मरीजों की रिकवरी की दर 42 प्रतिशत है जो कि जो रिकवरी के राष्ट्रीय औसत 29.2 प्रतिशत से लगभग 13 प्रतिशत अधिक है। हमारे एल-1, एल-2 तथा एल-3 कोविड चिकित्सालयों के 52,000 बेड के क्षमता विस्तार के लक्ष्य के सापेक्ष 53,400 बेड की व्यवस्था है। हम पूल टेस्टिंग में प्रदेश देश में प्रथम स्थान पर हैं। मलेरिया, डेंगू सहित विभिन्न संचारी रोगों की रोकथाम के लिए विशेष अभियान चलाएं। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस