लखनऊ, जेएनएन। डिफेंस एक्सपो 2020 में आए 40 देशों के रक्षामंत्री और उद्यमियों के सामने देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने साफ कर दिया कि भारत ने साझेदारी के लिए जो हाथ बढ़ाया है, वह सभी की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार थ्री-पी यानी पॉलिसी, प्रोडक्शन और पार्टनरशिप की नीति पर काम कर रही है। आने वाले कुछ वर्षों में भारत डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग हब बनेगा और आज कोई भी देश अलग-थलग रहकर काम नहीं कर सकता।

डिफेंस एक्सपो-2020 के उद्घाटन सत्र में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि लखनऊ में यह एक्सपो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सोच का ही परिणाम है, जिसमें 40 देशों के रक्षामंत्री आए हैं। उन्होंने कहा कि एक्सपो तकनीक, सूचना और व्यापारिक संभावनाओं को साथ लाने का आयोजन है। यह नए भारत के विजन को दर्शाता है।

थ्री-पी का उल्लेख करते हुए रक्षामंत्री ने कहा कि उद्योगों की स्थापना के लिए सिंगल विंडो सिस्टम को लागू किया। भारत को टेक्नोलॉजी का पावर हाउस बनाने की दिशा में काम चल रहा है। अगले कुछ वर्षों में भारत दुनिया का बड़ा डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग हब होगा। हम भारत की तस्वीर बदलेंगे। मेक इन इंडिया के तहत घरेलू रक्षा उत्पादन कंपनियों को भी बढ़वा दे रहे हैं।

रक्षा मंत्री ने कहा कि पार्टनरशिप का मतलब बायर-सेलर से अधिक महत्वपूर्ण, साझेदारी है। कोई देश अलग-थलग रहकर काम नहीं कर सकता है। भारत के पास बड़ा बाजार है। इस क्षेत्र में फैसिलिटेटर के रूप में काम करने में सक्षम है। इस डिफेंस एक्सपो के माध्यम से भारत का भविष्य देखना चाहिए।

यह दशक के इतिहास का बेजोड़ एक्सपो

अपने संसदीय क्षेत्र लखनऊ में हो रहे डिफेंस एक्सपो की गृहमंत्री ने खुली तारीफ की। उन्होंने कहा कि यह एक दशक के इतिहास का सबसे बेजोड़ डिफेंस एक्सपो है। वह तमिलनाडु के साथ ही यूपी डिफेंस कॉरिडोर को लेकर भी उत्साहित दिखे। कहा कि यह कॉरिडोर भारत ही नहीं, बल्कि दुनिया के लिए बेजोड़ मिसाल बनेंगे।

एक्सपो में दिखेगी भारत की तकनीक : नाईक

रक्षा राज्यमंत्री श्रीपद यशो नाईक ने अतिथियों का स्वागत किया। साथ ही कहा कि इस एक्सपो में भारत की ताकत दिखाई देगी। डिफेंस एक्सपो दो वर्ष बाद होता है। इससे सरकार मेक इन इंडिया का सपना साकार करने में भी कामयाब होगी। एक्सपो के परिणामों के भारत निश्चित तौर पर आगे बढ़ेगा।

स्क्रीन पर दिखी बदलते भारत की तस्वीर

उद्घाटन सत्र की शुरुआत ही जोशीले अंदाज में हुई। स्क्रीन पर आधुनिक आयुध के चलचित्र थे और मंच पर सेना के जवान कभी सैल्यूट तो कभी पास्ट करते नजर आए। इसी तरह एक शॉर्ट फिल्म एयरोस्पेस पर दिखाई गई। इसमें एक-एक भारतीय वायुसेना की ताकत दर्शाते एयरक्राफ्ट दिखाए गए।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस