लखनऊ, जेएनएन। निवेश और कारोबार की संभावनाएं तलाशने देश-दुनिया से जुटे कारोबारी और रक्षा विशेषज्ञों के सामने उत्तर प्रदेश अपने रोडमैप के साथ तैयार है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को डिफेंस एक्सपो में बदलते यूपी की तस्वीर पेश की। तमाम एक्सप्रेस-वे सहित विकसित की जा रहीं आधारभूत सुविधाएं गिनाईं। एक्सपो में 23 अनुबंध (एमओयू) की घोषणा करते हुए उन्होंने आत्मविश्वास भरे लहजे में कहा कि यूपी में इस एक्सपो से पचास हजार करोड़ रुपये के निवेश की संभावना है।

लखनऊ की वृंदावन योजना में आयोजित पांच दिवसीय डिफेंस एक्सपो के उद्घाटन समारोह में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आयोजन को बहुत महत्वपूर्ण और गौरव करने योग्य बताया। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रम देशवासियों को सेना के पराक्रम से अवगत कराने का अवसर देते हैं। देश को डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग हब के रूप में स्थापित करने में सहयोगी होते हैं। योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फरवरी 2018 में यूपी डिफेंस कॉरिडोर का शिलान्यास किया था। 25 हजार एकड़ लैंडबैंक के साथ हम छह नोड (केंद्र) पर काम कर रहे हैं। प्रदेश में बेहतर कनेक्टिविटी और कानून व्यवस्था की वजह से निवेश का बेहतर माहौल बना है।

योगी ने कहा कि यहां एक्सपो में 23 एमओयू उप्र सरकार के साथ होने जा रहे हैं, जिनसे 50 हजार करोड़ रुपये के निवेश की संभावना है। तीन लाख लोगों को रोजगार मिलने की उम्मीद है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे पास एक्सप्रेस-वे का बड़ा नेटवर्क है। यमुना एक्सप्रेस-वे और आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे के बाद पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे बनाया जा रहा है। इसी तरह बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे भी बन रहा है, जो डिफेंस कॉरिडोर के झांसी और चित्रकूट नोड को जोड़ेगा। गंगा एक्सप्रेस-वे पर भी काम शुरू हो गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि एशिया के सबसे बड़े जेवर एयरपोर्ट के साथ अन्य 11 एयरपोर्ट पर तेजी के साथ काम चल रहा है। योगी ने कहा कि डिफेंस एक्सपो प्रधानमंत्री मोदी के मेक इन इंडिया के संकल्प को पूरा करेगा।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस