लखनऊ, जेएनएन। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रसार में योगी आदित्यनाथ सरकार के मंत्री और भाजपा व अन्य पार्टियों के विधायक भी आ रहे हैं। बड़ी संख्या में मंत्रियों तथा विधायकों के कोरोना वायरस की चपेट में आने के कारण सीएम योगी आदित्यनाथ ने इन सभी को सख्त निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री ने मंत्रियों को सतर्क करने के साथ सलाह भी नी है कि घर या दफ्तर में भीड़ न जुटाएं। संक्रमित होने के बाद अपने तथा घर के लोगों की जांच जरूर कराएं।

कोरोना वायरस के संक्रमण पर बेहद गंभीर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को अपने मंत्रियों को कम से कम लोगों के संपर्क में आने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने मंत्रियों को कहा गया है कि वह अपने घर और दफ्तर में मिलने वालों की भीड़ जमा न करें। इसके साथ ही बेहद जरूरी होने पर ही वह फील्ड में जाएं। उन्होंने कहा कि मंत्री भी फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करें। अपने घर और दफ्तर को पूरी तरह से सैनिटाइज कराएं।

प्रदेश सरकार के मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह उर्फ मोती सिंह, धर्म सिंह सैनी, चेतन चौहान, उपेंद्र तिवारी तथा रघुराज सिंह के कोरोना पॉजिटिव निकलने बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी को यह सख्त निर्देश दिया है। कैबिनेट मंत्री मोती सिंह का पूरा परिवार कोरोना संक्रमित हो गया था। इसके बाद तो लाइन लग गई। आयुष मंत्री धर्म सिंह सैनी संक्रमित पाए गए हैं। होमगार्ड व राजनैतिक पेंशन मंत्री चेतन चौहान तथा खेल एवं युवा कल्याण मंत्री उपेंद्र तिवारी के साथ श्रम राज्य मंत्री रघुराज सिंह के कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद इलाज करा रहे हैं।

कोरोना के संक्रमण ने विधानसभा सचिवालय को भी चपेट में लिया है। उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष के ओएसडी पंकज मिश्रा कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इसके साथ ही विधानसभा अध्यक्ष का एक गार्ड भी कोरोना संक्रमित मिला है। इन सबके संक्रमित पाये जाने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंत्रियों को सतर्कता बरतने के निर्देश दिया है।

कोरोना की जांच के लिए घर-घर पहुंचेगी वैन

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यूपी में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए मोबाइल वैन के जरिए हर मोहल्ले में जांच के निर्देश दिये हैं। अब मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि शीघ्र आरटी-पीसीआर को मोबाइल वैन के जरिए हर घर तक पहुंचाया जाए। जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच हो सके। अधिक से अधिक जांच से ही संक्रमण को कंट्रोल किया जा सकेगा। एक बार फिर जांच को हर रोज 50 हजार तक पहुंचाने का सीएम योगी ने निर्देश दिया है। इसके साथ एल-1 कोविड अस्पतालों और बेड की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि बिना लक्षण वाले मरीजों को एल-1 अस्पतालों में भर्ती किया जाएगा। सरकार ने सैनिटाइजेशन के लिए भी अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं।

ज्यादा संक्रमण वाले जिलों में चलेंगी मोबाइल टेस्टिंग वैन : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अब कोरोना संक्रमण के जांच का लक्ष्य लगातार बढ़ाते जा रहे हैं। 50 हजार जांच प्रतिदिन का लक्ष्य दे चुके योगी ने अब ज्यादा संक्रमण वाले जिलों में मोबाइल टेस्टिंग वैन चलाने के निर्देश दिए हैैं। साथ ही वाराणसी, बलिया, गाजियाबाद और झांसी में अधिक नमूने लिए जाने के लिए कहा है। सोमवार को अपने सरकारी आवास पर आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री ने प्रत्येक शनिवार और रविवार को पूरे प्रदेश में स्वच्छता व सैनिटाइजेशन का विशेष अभियान चलाने के निर्देश दिए। 

अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित के विशेष कार्याधिकारी पंकज मिश्रा कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। विशेष कार्य अधिकारी पंकज मिश्रा को पीजीआई में भर्ती कराया गया है। इसके अलावा विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित के निजी सहायक अजय प्रताप सिंह भी पॉजिटिव हो गए हैं। विधानसभा अध्यक्ष के निजी सहायक अजय प्रताप सिंह को लोहिया संस्थान में भर्ती कराया गया। गनीमत की बात है कि विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आ गई है, हालांकि वह क्वॉरंटीन ही रहेंगे। 

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस