लखनऊ, जेएनएन। विश्व के साथ ही भारत तथा उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच भी सीएम योगी आदित्यनाथ के प्रयास की प्रशंसा करने वाली बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती समय-समय पर उनको राय भी देती रहती हैं। बसपा मुखिया ने सोमवार को भी दो ट्वीट किया है। जिसमें उन्होंने गरीब तथा मजदूरों की खुलकर मदद करने की अपील की है। उन्होंने मजदूरों की आर्थिक मदद के लिए भी कहा है।

मायावती ने कहा है कि कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन के दौरान लाखों गरीब प्रवासी मजदूरों को भोजन उपलब्ध कराने के लिये सरकारी गोदाम में रखे अनाज का इस्तेमाल किया जाए। मायावती ने सोमवार को ट्वीट किया, केन्द्र और सभी राज्य सरकारें कोरोना वायरस की जांच बढ़ाने के साथ-साथ लाखों लाचार गरीब मजदूर प्रवासियों को पेट भर खाना उपलब्ध करायें, वरना भूख से तड़पते यह लोग कैसे अपनी रोग प्रतिरोधक बढ़ाकर घातक कोरोना वायरस बीमारी से बच पायेंगे। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने कहा कि सरकारी गोदामों का गल्ला आखिर किस दिन काम आएगा। उन्होंने कहा वैसे बेहतर तो यही होगा कि सरकारें बंद के दौरान पीडि़त इन लाखों मज़लूम और मजबूर लोगों के लिए जल्दी से जल्दी उचित व्यवस्था करके इन्हें इनके घरों में सुरक्षित भिजवाये तथा इन्हें फौरी तौर पर कुछ आर्थिक मदद भी जरूर दे। बसपा एक बार फिर यह मांग करती है।

बसपा प्रमुख मायावती ने साफ कहा कि अगर कोरोना से प्रवासी मजदूरों को बचाना है तो उन्हें सरकार भरपूर भोजन कराएं जब ही मजदूरों की इम्यूनिटी मजबूत होगी। केंद्र तथा सभी राज्य सरकारें, कोरोना वायरस की टेस्टिंग बढ़ाने के साथ-साथ खासकर लाचार लाखों गरीब मजदूर प्रवासियों को पेट भर खाना उपलब्ध करायें वरना भूख से तड़पते यह लोग कैसे अपनी इम्यूनिटी बढ़ाकर घातक कोरोना बीमारी से बच पायेंगे। मायावती ने लॉकडाउन के दौरान देश के विभिन्न इलाकों में फंसे प्रवासी मजदूरों को खाद्यान्न की समस्या से बचाने के लिये राज्य सरकारों को इन्हें सुरक्षित इनके घरों तक पहुंचाने का सुझाव भी दिया। उन्होंने कहा कि वैसे बेहतर तो यही होगा कि सरकारें, लॉकडाउन से पीडि़त इन लाखों मजलूम व मजबूर लोगों की जल्दी से जल्दी उचित व्यवस्था करके इन्हें इनके घरों में सुरक्षित भिजवाये। 

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस