लखनऊ, जेएनएन। मैनपुर में नवोदय विद्यालय की छात्रा की दुष्कर्म के बाद कथित हत्या के मामले में कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा ने यूपी सरकार पर सवाल उठाए हैं। बुधवार को कांग्रेस मुख्यालय पर आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में आराधना मिश्रा ने कहा कि छात्रा के परिवार ने हत्या की आशंका जताई थी, लेकिन प्रशासन इसे आत्महत्या बताते हुए मामले को दबाने की कोशिश करता रहा। आखिर सरकार किसे बचाना चाहती है? क्या सरकार इतनी संवेदनहीन हो गई है कि जब कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा तब उन्हें घटना की याद आई।

आराधना मिश्रा ने उत्तर प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर कहा कि कानून व्यवस्था का हाल बहुत बुरा है। विद्यालयों में जहां छात्रावास हैं वहां ऐसी घटनाएं बढ़ रही हैं। सरकार बताए कि इन घटनाओं को लेकर सुरक्षा के क्या प्रबंध किए गए हैं। उन्होंने कहा कि सिर्फ मैनपुरी के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को हटाने से काम नहीं चलेगा, योगी सरकार को ठोस कार्रवाई करनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि विद्यालय में बच्ची के साथ 16 सितंबर 2019 को घटना हुई और 17 सितंबर को उसका अंतिम संस्कार हो जाता है। पीड़ित परिवारीजन दुष्कर्म और हत्या की आशंका जताते रहे, लेकिन पुलिस ने इस बात को नजरअंदाज कर दिया। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार लैब की जांच में भी दुष्कर्म की पुष्टि हुई है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार अगर जांच में विफल हो चुकी है तो सीबीआई जांच क्यों नहीं हो रही है। प्रदेश सरकार जानती है कि उससे बड़ी चूक हुई है। उन्होंने आरोप लगाया कि समय से चार्जशीट दाखिल नहीं हो रही इसीलिए अपराधियों का मनोबल बढ़ रहा है। यह सरकार की संवेदनशीलता बता रही है। उन्होंने यूपी सरकार से पीड़ित परिवार को एक करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता देने की भी मांग की है।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस