संवाद सहयोगी, बरहड़वा/पतना (साहिबगंज) : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बुधवार को पतना स्थित अपने आवास में कहा कि 1932 के खतियान के आधार पर स्थानीय व नियोजन नीति का प्रस्ताव कैबिनेट में पास हो चुका है। इससे मूलवासियों एवं आदिवासियों को हक और अधिकार मिला है। इससे राज्य के लोगों का भला होगा। इस प्रस्ताव से गांव और गरीब में खुशी का माहौल है। लोग अबीर गुलाल लगा कर सरकार की बधाई दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी निज स्वार्थ के लिए गलत रास्ते पर चल रहे हैं। देखिए झारखंड की जनता उन्हें कहां लेकर जाएगी। उनके पास जुमलेबाजी के सिवाय कुछ नहीं बचा है। उन्होंने कहा कि वे विपक्ष के सभी सवालों का जवाब देने के लिए तैयार हैं। उन्हें संतोषजनक जवाब दिया जाएगा।

राज्यपाल के बंद लिफाफे के संबंध में कहा कि इसका जवाब तो महामहिम देंगे। कहा कि सरकार बनने के साथ ही विपक्ष ने साजिश रचनी शुरू कर दी। उसी समय से सरकार गिर रही है। विपक्ष ख्याली पुलाव पका रहा है। विपक्ष का यह सपना पूरा नहीं होने वाला है। हमारी सरकार मजबूत स्थिति में है और जनता के हित में काम कर रही है। क्षेत्र का विकास देख विपक्षियों के पेट में दर्द होने लगा है। साहिबगंज में पत्थर कारोबार ठप होने तथा रोजगार के अभाव में लोगों के पलायन करने पर उन्होंने कहा कि 20 साल तक राज्य में भाजपा ने सरकार चलायी और इसके जरिए धन संग्रह किया। भाजपा ने इतने दिनों में पत्थर उत्खनन और परिवहन में जो गंदगी फैलाई उसी की छानबीन की जा रही है। भाजपा अपने पाप का ठिकरा वर्तमान सरकार पर फोड़ने की साजिश रच रही है। पतना में पहाड़िया समुदाय के लोगों को अनाज न मिलने पर कहा कि भाजपा अगर पहले से ही अच्छी व्यवस्था की होती तो आज ऐसी नौबत नहीं आती।सरकार सभी वर्ग के लिए काम कर रही है। इस मौके पर सांसद विजय हांसदा, झामुमो जिला सचिव सुरेश टुडू उपस्थित थे।

सुखाड़ से निपटने के लिए सरकार पूरी तरह तैयार

राज्य के अधिकांश जिला सुखाड़ की चपेट में है। इस आपदा से निपटने के लिए सरकार कमर कमर कस चुकी है। आपदा प्रबंधन के साथ साथ ग्रामीण विकास विभाग, कृषि विभाग, खाद्य आपूर्ति विभाग सहित अन्य सभी विभागों को इससे निपटने की तैयारी में जुटने का निर्देश दिया जा चुका है। राज्य के लोगों के लिए रोजगार व पलायन रोकने की भी व्यवस्था की जा रही है। वे बुधवार को अपने पतना स्थित आवास पर पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि इस आपदा से निपटने के लिए किए जा रहे कार्यों की वे स्वयं मानीटरिंग करेंगे।

Edited By: Gautam Ojha