लखनऊ, जेएनएन। बसपा प्रमुख मायावती ने उत्तर प्रदेश में बढ़ती मॉब लिंचिंग की घटनाओं चिंता व्यक्त की है। उन्होंने राज्य सरकार को नसीहत देते हुए कहा है कि ऐसे गलत तत्वों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करे तो बेहतर होगा।

मंगलवार को उत्तर प्रदेश के अमरोहा और जौनपुर में मॉब लिंचिंग की घटनाएं सामने आई हैं। इन घटनाओं पर रोष व्यक्त करते हुए बसपा प्रमुख मायावती ने बुधवार को ट्वीट कर राज्य सरकार को नसीहत देते हुए कहा कि 'यूपी में मॉब लिंचिंग अब अपने नए भयावह रूप में यहां की निर्दोष महिलाओं को अपना शिकार बना रहा है। इस संबंध में बच्चा चोरी के आरोप में बेगुनाह महिलाओं को प्रताडि़त/हत्या करने से लोगों में दहशत है। राज्य सरकार ऐसे गलत तत्वों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करे तो बेहतर है।'

भीड़ की हिंसा की घटनाओं ने बढ़ाई पुलिस की चुनौती
बच्चा चोरी के आरोप में हमले की घटनाओं ने पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल उठा दिये हैं। कड़े निर्देशों के बावजूद इन ऐसी घटनाओं पर अंकुश नहीं लगा पा रही पुलिस। इन मामलों पर एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) पीवी रमाशास्त्री का कहना है कि पिछले कुछ दिनों में कुछ जिलों में भीड़ द्वारा बच्चे को उठाने के आरोपों पर लोगों को पीटा गया है। हमने घटनाओं का विश्लेषण किया है। इसमें बच्चे को उठाने का कोई मुद्दा सामने नहीं आया है। ये असामाजिक तत्वों द्वारा फैलाई गई अफवाहें हैं। इन मामलों में अब तक 44 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

बच्चा चोरी करने के शक में भीड़ ने भिखारी को मार डाला

अमरोहा के आदमपुर क्षेत्र के गांव देहरी खादर में सोमवार रात हरि सिंह की पत्नी गांव के बाहरी छोर पर स्थित अपने घर के बाहर लेटी थी। उसके साथ 6 साल का बेटा भी सो रहा था। आरोप है कि देर रात एक अज्ञात व्यक्ति ने बच्चा उठाने का प्रयास किया। महिला ने शोर मचाया तो वह छुरा दिखाता हुआ भाग निकला। लोगों ने पीछा करके उसे पकड़ लिया और लाठी-डंडों से पीटकर मौत के घाट उतार दिया। भीड़ द्वारा मौत के घाट उतारा गया व्यक्ति भिखारी एवं मंदबुद्धि बताया जा रहा है। घटना पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी हुई है।

बच्चा चोरी के शक में महिला को भीड़ ने पीटा, हुई वस्त्रहीन

वहीं एक अन्य घटना में बच्चा चोर होने के संदेह में भीड़ ने मंदबुुद्धि महिला की पिटाई कर दी। मानवता को शर्मसार करने वाली वारदात जौनपुर के शाहगंज कोतवाली क्षेत्र के मदरहां गांव में सोमवार रात हुई। इस दौरान पीडि़ता वस्त्रहीन हो गई। रात मदरहां के कोटेदार सोमनाथ के घर के पास से करीब 38 वर्षीय महिला गुजर रही थी। कुछ ग्रामीणों ने उसे रोक लिया और पूछताछ करने लगे। मंदबुद्धि होने के नाते वह संतोषजनक जवाब नहीं दे सकी। ग्रामीण उसे बच्चा चोर समझ बैठे। इस दौरान भीड़ आक्रोशित होकर महिला की पिटाई करने लगी। इसी बीच एक व्यक्ति ने उसे पहचान लिया। तब उसकी जान बची। मॉब लिंचिंग का वीडियो वॉयरल होने के बाद हरकत में आई पुलिस ने पीड़िता के पिता की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस