लखनऊ, जेएनएन। भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रीय महामंत्री अरुण सिंह गुरुवार को निर्विरोध राज्यसभा सदस्य निर्वाचित घोषित कर दिया गया है। उनका प्रमाण पत्र उनके अधिकृत प्रतिनिधि व प्रदेश उपाध्यक्ष जेपीएस राठौर को निर्वाचन अधिकारी बृजभूषण दुबे ने सौंपा।

समाजवादी पार्टी की तजीन फातमा के त्यागपत्र देने के बाद रिक्त राज्यसभा की सीट के लिए दो दिसंबर भाजपा महासचिव अरुण सिंह ने नामांकन पत्र जमा किया था। इस सीट पर एकमात्र नामांकन होने और गुरुवार को नाम वापसी की समय अवधि खत्म होने के बाद अरुण सिंंह निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिए गए। विधानभवन के राजर्षि टंडन सभा कक्ष में राठौर को प्रमाणपत्र सौंपने के समय राज्यमंत्री रामशंकर पटेल समेत अनेक कार्यकर्ता भी उपस्थित थे। अरुण सिंह के निर्विरोध चुने जाने पर प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह व प्रदेश महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल ने बधाई दी है।

सपा की डॉ. तजीन फातमा के इस्तीफा देने से राज्यसभा में रिक्त हुई सीट के लिए केवल एक नामांकन होने के कारण भाजपा महासचिव अरुण सिंह का निर्विरोध निर्वाचन तय माना जा रहा था। मंगलवार को नामांकन पत्र की जांच के बाद पांच दिसंबर को नाम वापसी हुई और इसी के साथ अरुण सिंह को निर्वाचन घोषित कर दिया गया।  ऐसे में 12 दिसंबर को मतदान की जरूरत नहीं रह गई।

अरुण सिंह के पास रिवाल्वर है लेकिन गाड़ी नहीं

राज्यसभा सदस्य निर्वाचित भाजपा के महासचिव अरुण सिंह के पास अपने नाम पर कोई गाड़ी (वाहन) नहीं है अलबत्ता सुरक्षा के लिए रिवाल्वर जरूर है। उनके विरुद्ध कोई मुकदमा भी दर्ज नहीं है। पेशे से चार्टर्ड एकाउंटेंट 54 वर्षीय अरुण सिंह मीरजापुर जिले के मूल निवासी है परंतु अभी दिल्ली के मयूर बिहार में रहते है। परिवार समेत लगभग दस करोड़ पांच लाख रुपये की चल अचल संपत्ति के मालिक अरुण सिंह ने शपथपत्र में अपने पास 1,45,000 रुपये नगद, पत्नी मीनाक्षी सिंह के पास 75,500 रुपये और तीन आश्रितों पर कुल 25,700 रुपये नगदी दर्शायी गई है। उनके पास गांव में कृषि योग्य भूमि के अलावा नोएडा में पत्नी के नाम 41 सौ वर्ग फीट का प्लाट और लाजपतनगर में कार्यालय भी है।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस