जयपुर, जेएनएन। राजस्थान के 49 नगरीय निकायों में चुनाव की अधिसूचना के साथ ही स्टेट हाइवे पर टोल वसूली फिर से शुरू करने की अधिसूचना जारी कर राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने चुनाव के लिए भाजपा को बड़ा मुद्दा दे दिया है। भाजपा ने इसके विरोध में शुक्रवार को प्रदेशभर में जिला मुख्यालयों पर धरने दिए और कलक्टर को ज्ञापन देकर टोल वसूली बंद करने की मांग की। पार्टी निकाय चुनाव में आगे भी इस मुद्दे को जोर-शोर से उठाने की तैयारी कर रही है।

राजस्थान में शुक्रवार को निकाय चुनाव की अधिसूचना जारी हुई है और नामांकन का काम शुरू हुआ है और इसी दिन से राजस्थान के स्टेट हाइवे पर टोल वसूली भी शुरू हुई है। भाजपा ने अपने कार्यकाल में निजी वाहनों को टोल वसूली से राहत दी थी, वहीं कांग्रेस ने ऐन चुनाव के मौके पर निजी वाहनों से टोल वसूली वापस शुरू कर दी। सरकार के इस निर्णय ने भाजपा को चुनाव के लिए एक बड़ा मुद्दा दे दिया। भाजपा ने आदेश जारी होने के साथ ही इसका विरोध शुरू कर दिया और बड़े नेताओं के बयान के बाद शुक्रवार को पूरे प्रदेश में सरकार के खिलाफ धरने और जिला कलक्टर को ज्ञापन दिए गए। सभी जगह पार्टी के प्रदेश स्तरीय नेता धरनों में मौजूद रहे। पार्टी सूत्रों का कहना है कि चुनाव से पहले जनता से जुड़ा एक बड़ा मुद्दा पार्टी को मिला है और पूरे चुनाव में इसे सरकार के खिलाफ इस्तेमाल किया जाएगा।

जयपुर में जिला कलक्ट्रेट पर पार्टी जयपुर शहर के जिलाध्यक्ष मोहनलाल गुप्ता के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने धरना दिया। धरने को संबोधित करते हुए पूर्व चिकित्सा मंत्री और मौजूदा विधायक कालीचरण सराफ ने कहा कि कांगेेस सरकार ने पिछले नौ माह में राजस्थान को नौ वर्ष पीछे धकेल दिया है। सरकार स्वास्थ्य से लेकर कानून व्यवस्था और सड़क निर्माण सहित सभी क्षेत्रों में विफल रही हैं। साथ ही, साथ किसान, छात्र, बेरोजगार, महिलाएं अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं। वसंधुरा सरकार द्वारा राजस्थान के जनता के हित में निर्णय करते हुए सन 2018 में स्टेट हाईवे पर प्राइवेट वाहनों से टोल टैक्स नही लेने का निर्णय किया था। गहलोत सरकार ने इस टैक्स को पुनः लागू कर राजस्थान की जनता के साथ एक बड़ा धोखा किया हैं।

धरने को संबंधोति करते हुए शहर भाजपा के अध्यक्ष मोहनलाल गुप्ता ने कहा कि जब तक स्टेट हाईवे पर गहलोत जजिया टैक्स बंद नहीं होता, तब तक भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता सड़क से लेकर विधानसभा तक संघर्ष करेंगे। गुप्ता ने कांग्रेस को ढुलमुल सरकार बताते हुए कहा की निकायों के निर्णयों को लेकर सरकार ने जिस प्रकार से अपने निर्णय एक के बाद एक बदले हैं, उससे लगता है की सरकार अपने जन विरोधी फैसलों के कारण डरी व सहमी हुई है। भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता सड़क पर तथा भाजपा के विधायक विधानसभा में इस टोल टैक्स के विरोध में संघर्ष करेंगें तथा सरकार को इस निर्णय को बदलने को मजबूर करेंगे।

भारतीय जनता पार्टी जयपुर शहर के प्रभारी व अजमेर दक्षिण के विधायक वासुदेव देवनानी ने धरने का संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार एक जनविरोधी सरकार है। निकाय चुनाव में जनता ऐसी जनविरोधी नीतियों की सरकार को अवश्य सबक सिखाएगी। धरने को संगानेर के विधायक अशोक लाहोटी, पूर्व विधायक कैलाश वर्मा, प्रदेश महामंत्री भजन लाल शर्मा, प्रदेश मंत्री मुकेश दाधीच, जयपुर देहात उत्तर के अध्यक्ष व चैंमू के विधायक रामलाल शर्मा आदि ने भी संबोधित किया।

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस