रांची, राज्य ब्यूरो। पूर्व कृषि मंत्री रणधीर सिंह ने राज्य सरकार पर किसानों की अनदेखी का आरोप लगाया है। गुरुवार को प्रदेश भाजपा कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग की कमियां गिनाईं। उन्होंने कह कि राज्य सरकार केंद्र की योजनाओं को भी धरातल पर नहीं उतार पा रही हैं। यह भी कहा कि कृषि मंत्री बादल पत्रलेख की अपने विभाग और अधिकारियों पर पकड़ ही नहीं है।

किसानों को मिल रहा केंद्र की योजनाओं का लाभ

उन्होंने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की चर्चा करते हुए कहा, इस योजना के तहत केंद्र की ओर से किसानों को 6000 रुपये सालाना दिए जा रहे थे। इस योजना की शुरुआत से अब तक झारखंड के किसानों के खाते में 10 किस्तें आ चुकी हैं। पूरे झारखंड में 31 लाख 51 हजार किसानों का डेटा अपलोड करने का काम हुआ था।

राज्य सरकार पर आरोप

सरकार ने इस सूची से चार लाख किसानों का नाम हटा दिया। सरकार नहीं चाहती है कि केंद्र की महत्वाकांक्षी योजना का लाभ झारखंड के किसानों को मिल सके। कृषि आशीर्वाद योजना को पहले ही बंद कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने सत्ता में आने के बाद घोषणा की थी कि हम किसानों के ऋण माफ करेंगे। दो लाख तक कृषि ऋण माफ करने की बात करने वाली सरकार 50 हजार की सीमा पर ही अटक गई। 11 लाख में से चार लाख किसानों को ही अब तक सरकार ढूंढ़ सकी है। प्रेस वार्ता में मीडिया प्रभारी शिवपूजन पाठक भी उपस्थित थे।

Edited By: Madhukar Kumar