अयोध्या, जेएनएन। रामनगरी में श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन समारोह में पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सप्तपुरियों में शामिल अवधपुरी को समृद्धशाली एवं वैभवशाली नगरी बनाने की वचनबद्धता दोहराई। इस अवसर को मंगल उत्साह का दिन बताते हुए सीएम ने कहा कि यह केवल मंदिर निर्माण का ही नहीं बल्कि भारत को दुनिया के सामने प्रस्तुत करने का अवसर है। सीएम योगी ने कहा कि ब्रह्मांड नायक श्रीराम के मंदिर के लिए अनेक पूज्य संतों, वीरों, वीरांगनाओं ने बलिदान दिया। उनके आदर्शों की रक्षा हो रही है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या की विकास योजनाओं का जिक्र करते हुए रामायण सर्किट के तहत विकास कार्यों के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया। उन्होंने कहा कि स्वदेश दर्शन के तहत सरयू नदी के घाटों का निर्माण कराया जा रहा है। रामकथा की शृंखला चल रही है। सीएम योगी ने कहा कि तीन वर्ष पहले दीपोत्सव कार्यक्रम के अवसर पर राममंदिर निर्माण का जो सपना देखा था, वह अब भव्य एवं दिव्य मंदिर के रूप में सिद्ध हो रहा है।

श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए पांच सौ वर्षाें तक चले संघर्ष की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में न्यायपालिका एवं कार्यपालिका की ताकत से लोकतांत्रिक, शांतिपूर्ण ढंग से समस्या का समाधान हो गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि ब्रह्मांड नायक श्रीराम के मंदिर के लिए अनेक पूज्य संतों, वीरों, वीरांगनाओं ने बलिदान दिया। उनके आदर्शों की रक्षा हो रही है। उन्होंने कहा कि छह साल पहले प्रधानमंत्री ने जाति, क्षेत्र एवं भाषा के नाम पर भेदभाव रहित सबका साथ, सबका विकास का संकल्प लिया था, जिसे निरंतर आगे बढ़ाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वैश्विक महामारी का हवाला देते हुए कहा कि सीमित संख्या में अतिथियों को आमंत्रण दिया जा सका है। आंदोलन से जुड़े संतों को आने वाले समय में कार्यक्रमों के माध्यम से आमंत्रित किया जाएगा। उन्होंने प्रधानमंत्री के अलावा विशिष्ट अतिथि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघ चालक मोहन भागवत का भी स्वागत किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने श्रीराम का जयघोष किया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस