प्रदीप श्रीवास्‍तव, गोरखपुर। Ayodhya Case Verdict 2019 आशंकाएं निर्मूल साबित हुईं। सुबह से ही टीवी से चिपके लोगों की धड़कनें दस बजते-बजते तेज होने लगीं। 10:30 बजे से जैसे ही सुप्रीम कोर्ट का निर्णय आना शुरू हुअा, फैसला सुनने के साथ ही लोगों ने फोन पर अपने शुभचिंतकों से यह जानकारी लेनी शुरू कर दी कि 'कहीं कुछ' हो तो नहीं रहा है। लेकिन जैसे-जैसे फैसला आता गया वैसे-वैसे आशंकाएं भी निर्मूल साबित होती रहीं। राजनीतिक पार्टियों, धर्मगुरुओं, टीवी चैनलों और सोशल मीडिया ने जिस तरह का संयम बरता उससे सभी ने सुकून की सांस ली। सभी की जुबां पर बस एक ही बात थी कि यह - 'न किसी की जीत, न किसी की हार' है।

#AYODHYAVERDICT हैश टैग से ट्वीट हुए छह लाख से अधिक ट्वीट

अयोध्‍या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा 17 अक्‍टूबर को फैसला सुरक्षित करने के बाद केंद्र और यूपी सरकार सरकार ने सुरक्षा व्‍यवस्‍था को लेकर तैयारी शुरू कर दी थी। सरकार अपने स्‍तर से तैयारी कर रही थी तो समाज के बु‍द्धिजीवियों ने अपने स्‍तर से भी प्रयास शुरू कर दिए थे। सभी से संयम बरतने की अपील की जा रही थी और उस अपील का असर भी देखने को मिला। देखते ही देखते सोशल मीडिया पर अयोध्‍या का हैशटैग छा गया। ट्वीटर पर #AYODHYAVERDICT टैग के साथ शाम तक 6 लाख से अधिक ट्वीट हो गए। संतोष करने लायक बात यह रही कि सभी जगह से अमन चैन की ही बात हुई। जहां से कोई आपत्तिजनक बात की गई पुलिस ने सख्‍ती से उससे निपटा।

पुलिस ने अापत्तिजनक टिप्‍पणी को हटवाया

देवरिया के सलेमपुर कोतवाली के बेल्थरा निवासी एक युवक ने सोशल मीडिया पर टिप्पणी कर दी। पुलिस अधिकारियों के संज्ञान में मामला आने के बाद पुलिस उस व्‍यक्ति के घर पहुंच गई और आपत्तिजनक टिप्पणी को संबंधित से हटवाया गया। फैसला आने के बाद एक युवक ने फेसबुक पर राम मंदिर को लेकर टिप्पणी कर दी। जब यह बात पुलिस के सोशल मीडिया सेल तक पहुंची तो पुलिस सक्रिय हुई। संबंधित फेसबुक का डाटा निकालने के बाद पता चला कि उस एकाउंट को हैंडल करने वाला व्‍यक्ति सलेमपुर कोतवाली क्षेत्र का निवासी है।

इसके बाद चौकी प्रभारी मझौलीराज को मौके पर भेजा गया। जब पुलिस टीम श्रीराम के घर पहुंची तो पता चला कि वह व्‍यक्ति दुबई में है और अपना फेसबुक वहीं से हैंडल कर रहा है। इसके बाद पुलिस ने तत्काल उसके परिजनों से उससे बात कर संबंधित पोस्ट को हटाने की बात कही। सीओ वरुण मिश्र ने कहा कि सूचना के बाद पुलिस गई थी। पोस्ट को हटवा दिया गया है।

एक ट्वीटर अकाउंट बंद, छह आपत्‍तिजनक पोस्ट हटाए गए

महराजगंज में भी सोशल पर शिकंजा कसा रहा। सोशल मीडिया की निगरानी कर रहे विशेष सेल में एक ट्वीटर अकाउंट को बंद कराया, जबकि ट्वीटर से छह पोस्ट हटवाए गए। यही हाल हाल फेसबुक का रहा। पुलिस की सख्ती के बाद लोगों ने पोस्ट को हटा लिया। फैसले के बाद हालत पर नजर रखने के लिए विशेष सेल में तैनात किए गए इंस्पेक्टर मनीष सिंह यादव आधा दर्जन पुलिसकर्मियों के साथ सैकड़ों पोस्ट की निगरानी करते रहे। शनिवार की सुबह एक व्यक्ति ने अपने ट्वीटर से आपत्तिजनक पोस्ट किया।

खबर लगते ही सेल ने लखनऊ मुख्यालय से संपर्क कर तत्काल ट्वीटर को बंद करा दिया। जबकि दूसरे ट्वीटर अकाउंट चलाने वाले व्यक्ति ने पुलिस की सख्ती के बाद खुद ही पोस्ट को हटा लिया। महराजगंज जिले के पांच लोगों ने दूसरों की भावना को आहत करने वाले पांच अलग-अलग पोस्ट अपने फेसबुक अकाउंट से किया। इन शरारती तत्वों पर पुलिस की नजर पड़ी और तत्काल सोशल मीडिया पर पांचों पोस्ट को हटवा दिया गया ।

गोरखपुर में लगातार दौरा करते रहे अफसर

गोरखपुर में पुलिस व प्रशासनिक अफसर जिले के संवेदनशील इलाकों का लगातार दौरा कर रहे हैं। जगह-जगह पुलिस व मजिस्ट्रेटों की तैनाती के कारण माहौल शांतिपूर्ण है। सुरक्षा व्यवस्था को चाक-चौबंद बनाए रखने का निर्देश दिया जा रहा है। मंडलायुक्त जयंत नार्लिकर व एडीजी जय नारायण सिंह  गोरखनाथ मंदिर, गोलघर, घंटाघर, मुख्य बाजारों में सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेते रहे। मंडलायुक्त ने बताया कि मंडल में सभी प्रशासनिक अधिकारी गश्त पर हैं।

डीएम-एसएसपी भी लगातार भ्रमण कर स्थितियों पर नजर रखें हुए हैं। जनजीवन सामान्य है। दुकानें खुली हैं। वाहनों का आवागमन सुचारू रूप से चल रहा है। सिर्फ शैक्षणिक संस्थानों को बंद करने के आदेश दिए गए हैं। मंडलायुक्त गश्त के दौरान रुककर आम जनता से मिलकर शांति व सौहार्द बनाए रखने की अपील कर रहे हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंचे डीएम-एसएसपी

डीएम के. विजयेंद्र पांडियन व एसएसपी डा. सुनील गुप्त शहरी इलाकों से होकर ग्रामीण क्षेत्रों में भ्रमण कर रहे हैं। शनिवार की सुबह डीएम व एसएसपी ने गोरखनाथ मंदिर पहुंचकर सुरक्षा व्यवस्था को देखा और लोगों से बातचीत की। इसके बाद दोनों अफसरों ने ग्रामीणों क्षेत्रों का रुख किया। डीएम व एसएसपी मानीराम पहुंचे जहां पर लोग अन्य दिनों की भांति अपने कार्य व्यस्त रहे।

कस्बों में दुकानें खुली हैं। इसके बाद अफसरों का काफिला भटहट में पहुंचा। वहां भी अफसरों ने आमजन से मुलाकात कर शांति व्यवस्था बनाए रखने में सहयोग देने की अपील की। मंडलायुक्त जयंत नार्लिकर ने बताया कि सोशल मीडिया पर नजर रखी जा रही है। आम जनता से सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म ट्वीटर, वाट्सएप व फेसबुक पर बयानबाजी से बचने की अपील की जा रही है। धर्मनिरपेक्षता के विरुद्ध अफवाह फैलाने की कोशिश करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।

Posted By: Pradeep Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस