लखनऊ, जेएनएन। सरकारी टेंडर में दलितों और पिछड़ों को आरक्षण दिये जाने के एलान का स्वागत करते हुए संघर्ष समिति के नेताओं ने उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को धन्यवाद दिया है। समिति के छह सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने डिप्टी सीएम से उनके आवास पर मुलाकात कर दलित कार्मिकों की लम्बे समय से लंबित पदोन्नति में आरक्षण की व्यवस्था की बहाली की मांग उठाई है। इसके साथ ही आरक्षण समर्थकों ने पिछड़े वर्ग के कार्मिकों को भी पदोन्नति में आरक्षण दिये जाने की मांग की है।

आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के संयोजक अवधेष कुमार वर्मा के नेतृत्व में छह सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने केशव मौर्य से सोमवार को मुलाकात की और ज्ञापन सौंपकर सरकारी ठेकों में आरक्षण दिये जाने के फैसले का स्वागत किया। सरकारी ठेकों में पिछड़े वर्गों के ठेकेदारों को 27 फीसद, अनुसूचित जाति के ठेकेदारों को 21 फीसद और अनुसूचित जनजाति को दो फीसद आरक्षण और गरीब सवर्णों को 10 फीसद आरक्षण लागू किया गया है।

केशव मौर्य से मुलाकात कर समिति ने कहा कि आरक्षण का लाभ ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाने और उनकी भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए लिया गया यह फैसला सराहनीय है। कहा गया कि यूपी सरकार पदोन्नति में आरक्षण की व्यवस्था बहाल कर उनकी मांग को पूरा करे, जिससे दलित कार्मिक जो सपा सरकार अपमानित किये गए थे, उन्हें उनका सम्मान वापस मिल सके। केशव मौर्य ने समिति के सदस्यों को उनकी मांगों पर विचार करने का आश्वासन दिया है। उपमुख्यमंत्री से मिलने वालों में अवधेश कुमार वर्मा, डॉ. रामशब्द जैसवारा, आरपी केन, अनिल कुमार, अजय कुमार और अंजनी कुमार शामिल रहे। 

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस