पटना [जेएनएन]। लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के परिवार में फिर नया फैमिली ड्रामा (Family Drama)  जारी है। पहले सास राबड़ी देवी (Rabri Devi) ने बहू ऐश्‍वर्या राय (Aishwarya Rai) को घर से निकाला, फिर गुरुवार की रात जब राबड़ी देवी ने ऐश्‍वर्या के सामान उनके मायके भेज दिए तो उनकी अपने समधी चंद्रिका राय (Chandrika Rai) से भी आरपार की लड़ाई छिड़ गई है। ऐश्‍वर्या के पिता चंद्रिका राय के अनुसार उन्‍होंने इस मामले में शुक्रवार को राबड़ी देवी व अन्‍य के खिलाफ एफआइआर दर्ज करा दी है।

क्‍या है मामला, जानिए

विदित हो कि गुरुवार रात तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) की मां राबड़ी देवी ने बहू ऐश्‍वर्या राय के समान अपने आवास से निकालकर उनके मायके भिजवा दिए, लेकिन उन्‍हें लेने से पिता चंद्रिका राय ने इनकार कर दिया। ऐश्‍वर्या के समान शुक्रवार को भी सड़क पर पड़े रहे। अब चंद्रिका राय ने इस मामले में राबड़ी देवी सहित अन्‍य सभी लोगों के खिलाफ एफआइआर दर्ज करा दी है।

इस मामले में लालू परिवार ने कहा है कि सामान ऐश्‍वर्या की मां पूर्णिमा राय (Purnima Rai) व हेल्‍पलाइन (Helpline) के अनुराेध पर भेजे गए। तेज प्रताप यादव ने इस संबंध में हेल्‍पलाइन का पत्र भी दिखाया।  लेकिन चंद्रिका राय ने इसे लालू परिवार का जंगल राज (Jungle Raj) करार देते हुए कहा है कि बिना सूचना दिए कमरे का ताला तोड़ जबरन इस तरह सामान भेजना बर्दाश्‍त से बाहर की गलत हरकत है। चंद्रिका राय ने तेज प्रताप द्वारा दिखाए जा रहे पत्र पर भी कहा कि उसमें सामान भेजे जाने की बात नहीं लिखी है।

रात के अंधेरे में मायके भेजा बहू का सामान

राबड़ी देवी ने अपनी बहू ऐश्‍वर्या राय के सामान अपने आवास से निकालकर उनके पिता चंद्रिका राय के आवास पर भेज दिया। चंद्रिका राय ने इसे लेने से इनकार कर दिया। चंद्रिका राय ने सामान को जब्‍त करने के लिए पुलिस बुला लिया। घटना को लेकर उन्‍होंने राबड़ी देवी के खिलाफ एफआइआर दर्ज करा दी है।

चंद्रिका ने किया सवाल- समझ क्‍या लिया है? 

चंद्रिका राय के अनुसार बगैर सूचना कमरे का ताला तोड़ इस तरह जबरन सामान भेजना गलत है। देर रात सामान को सुरक्षाकर्मियों यह कहते हुए भेज दिया कि किसी तरह जबरन सामान देकर ही आना। आखिर उन्‍होंने समझ क्‍या लिया है? उन्‍होंने सवाल किया कि यह जंगल राज है क्‍या? सामान भेजना ही था तो पहले सूचना देनी थी, दंडाधिकारी की मौजूदगी में समान की सूची बनती और कानूनी तरीके से भेजी जाती तो और बात थी।

बहुमूल्‍य सामानों की चोरी करने का भी लगाया आरोप

चंद्रिका राय ने कहा कि वे नहीं जानते कि गाडि़यों में क्‍या-क्‍या हैं, लेकिन ऐश्‍वर्या के कमरे का ताला क्‍यों तोड़ा? उन लोगों ने कीमती समान रख लिए हों तो  आश्‍चर्य नहीं। हो सकता है कि गाडि़यों में विस्‍फोटक या शराब हों, जिनके माध्‍यम से फंसाने की साजिश हो। चंद्रिका राय ने बहुमूल्‍य सामानों की चोरी करने का भी आरोप लगाया है। उन्‍होंने इसे प्रताड़ना के मुकदमे को बाधित करने का प्रयास भी कहा है।

मीसा भारती बोली- चंद्रिका राय का मानसिक संतुलन बिगड़ा

चंद्रिका राय के आरोपों पर भड़कीं लालू की बेटी मीसा भारती ने कहा कि उनकी राजनीतिक जमीन खिसक गई है, इसलिए जानबूझकर सस्‍ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए वे ऐसा कर रहे हैं। चंद्रिका राय व उनके पूरे परिवार का मानसिक संतुलन बिगड़ गया है। उन्‍होंने कहा कि ऐश्‍वर्या की मां पूर्णिमा राय ने बेटी के सामान के लिए हेल्‍पलाइन को पत्र लिखा था, जिसके बाद हेल्‍पलाइन के निर्देश पर सामान भेजे गए। तेज प्रताप यादव ने इस पत्र को दिखाया।

चंद्रिका राय बोले: गलत बयानी कर रहीं मीसा

मीसा भारती के आरोपों पर चंद्रिका राय ने फिर अपनी बात रखी। उन्‍होंने कहा कि हेल्‍पलाइन के पत्र में सामान भेजने की बात कहीं नहीं लिखी है। हेल्‍पलाइन के पत्र में राबड़ी देवी से सामान वापसी में सहयोग का आग्रह किया है,  ताकि आगे की कार्रवाई हो सके। पत्र में सामान भेजने का निर्देश नहीं है। चंद्रिका राय ने कहा कि यह सामान भेजने का तरीका नहीं है।

तेज प्रताप व ऐश्‍वर्या के बीच चल रहा तलाक का मुकदमा

विदित हो कि तेज प्रताप यादव व ऐश्‍वर्या राय के बीच तलाक का मुकदमा चल रहा है। इस मामले में पटना फैमिली कोर्ट ने बीते 24 दिसंबर को ऐश्‍वर्या को अंतरिम गुजारा राशि देने का फैसला सुनाया। आरोप है कि इसके पहले 16 दिसंबर को राबड़ी देेेेवी ने ऐश्‍वर्या को अपने आवास से निकाल दिया था। ऐश्‍वर्या ने अपनी सास राबड़ी देवी, पति तेज प्रताप यादव तथा ननद मीसा भारती के खिलाफ प्रताड़ना का मुकदमा दर्ज कराया है। फिलहाल ऐश्‍वर्या राय अपने पिता व आरजेडी नेता चंद्रिका राय के पटना स्थित सरकारी आवास पर रह रहीं हैं।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस