लखनऊ, जेएनएन। लोकसभा चुनाव 2019 में सातवें चरण का मतदान सम्पन्न होने के बाद आए एक्जिट पोल ने भाजपा के खिलाफ अभियान चलाने वाली पार्टियों के सामने संकट ला दिया है। उत्तर प्रदेश में भाजपा के खिलाफ बड़ा गठबंधन बनाने वाली बसपा प्रमुख मायावती से उनके सहयोगी दल के मुखिया अखिलेश यादव ने उनके आवास पर सोमवार को भेंट की। दोनों के बीच करीब एक घंटे तक बैठक चली। हालांकि बैठक के बाद अखिलेश कुछ बोलने से बचे और चुप्पी साधकर तेजी से निकल गए। माना जा रहा है कि दोनों के बीच एक्जिट पोल से उभर रही तस्वीर के साथ मतगणना के नतीजे आने तक गठबंधन के रुख को लेकर भी मंथन हुआ।

सपा-बसपा गठबंधन ने एक्जिट पोल से मिल रहे आभास के मुताबिक नतीजे आने के बाद की तैयारी शुरू कर दी है। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने भी शनिवार को इसी सिलसिले में मायावती और अखिलेश यादव से अलग-अलग मुलाकात की थी। विपक्षी एकता के लिए प्रयास कर रहे नायडू जहां सपा-बसपा को कांग्रेस के साथ लाने की कोशिश में हैैं, वहीं प्रदेश में नतीजों का इंतजार कर रहे यह दोनों दल परिणाम के मुताबिक ही आगे बढऩे का मन बनाए हुए हैैं। सोमवार को मायावती से मुलाकात को भी अखिलेश ने ट्वीट में अगले कदम की तैयारी करार दिया है। बताया जा रहा है कि अखिलेश-मायावती के बीच दिल्ली में सोनिया गांधी के साथ विपक्षी दलों बैठक को लेकर भी चर्चा हुई। 

एक्जिट पोल ने सपा-बसपा व रालोद गठबंधन को असमंजस में लाकर खड़ा कर दिया है। कोई एजेंसी जहां प्रदेश में गठबंधन को 20 सीटें मिलती दिखा रही है, वहीं दूसरी एजेंसी गठबंधन को 56 सीटें तक दे रही है। आकलन में तीन गुना तक अंतर ने गठबंधन समर्थकों के साथ ही विपक्ष को भी दुविधा में डाल दिया है। हालांकि सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी का मानना है कि मौजूदा आंकड़े तो केवल अनुमान भर हैैं, असल तस्वीर 23 मई को सामने आएगी। चौधरी कहते हैैं कि परिणाम चौंकाने वाले होंगे, क्योंकि गठबंधन के लिए प्रदेश में जबर्दस्त वोटिंग हुई है। 
 

पांचवीं बार पहुंचे अखिलेश

बसपा प्रमुख मायावती से मिलने के लिए उनके आवास पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव सोमवार को पांचवीं बार उनके पास पहुंचे। पहली बार अखिलेश 14 मार्च, 2018 को मायावती के लखनऊ स्थित आवास पर आभार जताने तब पहुंचे थे, जब गोरखपुर व फूलपुर के उपचुनाव में अघोषित गठबंधन से उन्हें दोनों सीटों पर जीत मिली थी। इसी साल पांच जनवरी को मायावती के दिल्ली स्थित आवास पर अखिलेश गठबंधन को आकार देने गए थे। केवल दस दिन बाद ही 15 जनवरी को मायावती को जन्मदिन की बधाई देने अखिलेश फिर उनके लखनऊ स्थित घर पर आए थे। 13 मार्च को प्रत्याशियों के नाम तय करने से पहले भी अखिलेश फिर मायावती के घर गए थे। अब एक्जिट पोल के नतीजे आने के बाद सोमवार को वह मायावती के घर पर थे।

23 बार साझा किया मंच

अखिलेश और मायावती ने अब तक कुल 23 बार मंच साझा किया है। पहली बार दोनों 23 मई, 2018 को कर्नाटक में शपथग्रहण के मंच पर एक साथ नजर आए थे। फिर इसी साल 12 जनवरी को दोनों नेता गठबंधन के ऐलान के लिए प्रेसवार्ता के मंच पर दिखे थे। सात अप्रैल से 17 मई तक 21 संयुक्त रैलियों में भी दोनों एक साथ मंच पर थे। इसमें 19 अप्रैल की मैनपुरी रैली में अखिलेश व मायावती के साथ सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव भी मंच पर थे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस