महाराष्ट्र, एएनआइ। महाराष्ट्र के औरंगाबाद में लोगों का पानी की किल्लत के कारण बुरा हाल है। भीषण गर्मी के बीच लू चल रही है। ऐसे में पानी की कमी लोगों के लिए बड़ी समस्या बन के उभरी है। पूर्व सीएम और भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस ने सोमवार को औरंगाबाद में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ जल संकट पर विरोध मार्च निकाला। इस  'जल आक्रोश मोर्चा' में शहर के निवासियों ने बड़ी संख्या में भाग लिया। बता दें कि दो दशकों से शहर में व्याप्त पानी की समस्या प्रतिदिन विकराल होती जा रही है। शहर के कुछ इलाकों में नागरिक हर सप्ताह या आठवे दिन में एक बार पानी की आपूर्ति के लिए शिकायत कर रहे हैं।

भाजपा के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फडणवीस ने सोमवार को कहा कि महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी सरकार ने मराठवाड़ा में पानी की कमी को दूर करने और इसे सूखा मुक्त बनाने के लिए पहले से स्वीकृत योजनाओं को रोक दिया है। उन्होंने केंद्रीय मंत्रियों रावसाहेब दानवे और भागवत कराड के साथ दिन में यहां पार्टी के 'जल आक्रोश मोर्चा' में हिस्सा लिया।

फड़णवीस ने कहा कि महा विकास अघाड़ी सरकार को नहीं लगता कि मुंबई और उसके महानगरीय क्षेत्र से परे महाराष्ट्र है। उन्होंने मराठवाड़ा विकास बोर्ड को मार डाला है। इसने उन योजनाओं को रोक दिया है जो मराठवाड़ा में सूखे को खत्म कर देती। राज्य सरकार ने पानी की पाइपलाइन योजना को रोक दिया और निविदा का प्रबंधन करने तक काम शुरू नहीं होने दिया। जिस गति से उनके तहत काम चल रहा है, वह अगले 25 वर्षों में पूरा नहीं होगा।

वे रुक गए मराठवाड़ा जल ग्रिड परियोजना और गोदावरी नदी में सुरंगों द्वारा पानी लाने की योजना है। उन्होंने कहा कि जलयुक्त शिवर जल संरक्षण योजना को राज्य सरकार ने रोक दिया है, उन्होंने कहा कि भाजपा की लड़ाई तब तक जारी रहेगी जब तक औरंगाबाद के लोगों को पर्याप्त पानी नहीं मिल जाता।

Edited By: Ashisha Rajput