नई दिल्ली, एएनआइ। नागरिकता कानून को लेकर हो रहे हिंसक विरोध प्रदर्शनों को लेकर जनरल बिपिन रावत के बयान का वीके सिंह ने बचाव किया है। उन्होंने विपक्ष पर हर चीज को लकेर राजनीति करने का आरोप लगाया है।

बता दें कि CAA के खिलाफ प्रदर्शन के नाम पर हो रही तोड़फोड़ को लेकर बोलते हुए सेना प्रमुख ने कहा था कि नेता वो नहीं हैं जो हिंसा करने वाले लोगों का साथ देते हैं। छात्र विश्वविद्यालयों से निकलकर हिंसा पर उतर गए, लेकिन हिंसा भड़काना नेतृत्व करना नहीं है।

हर चीज का राजनीतिकरण ठीक नहीं

एएनआई से बात करते हुए केंद्रीय मंत्री और पूर्व सेना प्रमुख जनरल (सेवानिवृत्त) वीके सिंह ने बिपिन रावत के बयान का बचाव करते हुए विपक्ष को हर चीज का राजनीतिकरण नहीं करने को कहा। उन्होंने कहा कि छात्रों को विरोध प्रदर्शन करते समय शांति बनाए रखने के लिए कहने में कुछ भी राजनीतिक नहीं था।

क्या कहा वीके सिंबॉह ने?

विपक्ष पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि हमारे इस महान देश में विपक्ष किसी भी चीज को विवाद में बदल सकता है। अच्छा होता कि सेना प्रमुख क्या कहना चाहते हैं विपक्ष उस बात को समझे। उनसे पूछें कि उनका क्या मतलब है। मुझे इसमें कोई राजनीति नहीं दिखती है। अगर मैं कहता हूं कि छात्र अनावश्यक रूप से संपत्ति को नुकसान न पहुचाएं, तो क्या यह राजनीति है?

कुछ गलत नहीं

सिंह ने कहा कि अगर मैं फुटबॉल खेलता हूं, तो विपक्ष कहेगा कि यह राजनीति है। यदि आप संदर्भ को नहीं समझते हैं, तो उनके साथ जाकर देखें। अगर उसने छात्रों को आगजनी नहीं करने की सलाह दी थी, तो यह बुरी बात नहीं है। पता नहीं कि इसमें क्या गलत है?

विपक्ष ने दी नसीहत

बता दें कि सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत गुरुवार को राष्ट्रीय राजधानी में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने प्रदर्शन के दौरान तोड़फोड़ और सार्जनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने वालों को लेकर बयान दिया। सेना प्रमुख के बयान को विपक्ष ने राजनीतिक टिप्पणी करार देते हुए उनसे राजनीति में शामिल होने से बचने की हिदायत दी।

Posted By: Manish Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस