जागरण टीम, नई दिल्ली। Vice President Election: भाजपा के विरुद्ध विपक्षी बिखराव की स्थिति एक बार फिर सामने आ रही है। राष्ट्रपति चुनाव की तरह ही उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए भी बसपा प्रमुख मायावती ने राजग प्रत्याशी जगदीप धनखड़ को समर्थन की घोषणा कर दी है। तेलुगु देसम पार्टी (TDP) ने भी राजग प्रत्याशी धनखड़ को समर्थन देने की घोषणा की है। बीजू जनता दल (BJD) पहले ही धनखड़ को समर्थन देने की घोषणा कर चुका है। तृणमूल कांग्रेस ने तो उपराष्ट्रपति चुनाव में वोटिंग में दूर रहने का फैसला किया है।

राष्ट्रपति चुनाव का दिया उदाहरण

मायावती ने बुधवार को ट्वीट में सबसे पहले राष्ट्रपति चुनाव का ही उदाहरण दिया, जिसमें राजग प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मु के नाम पर विपक्ष के साथ सहमति नहीं बन सकी। विपक्ष के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा थे। यहां उत्तर प्रदेश में सपा और कांग्रेस ने यशवंत का समर्थन किया, जबकि बसपा, सुभासपा और जनसत्ता दल लोकतांत्रिक ने राजग प्रत्याशी मुर्मु को समर्थन दिया। सपा विधायकों ने भी क्रास वोटिंग की और परिणामस्वरूप द्रौपदी मुर्मु की जीत में उत्तर प्रदेश ने भी बड़ी भूमिका निभाई। अब उपराष्ट्रपति चुनाव होने जा रहे हैं, जिसमें जगदीप धनखड़ राजग प्रत्याशी हैं।

मायावती ने ट्वीट में लिखा- 'सर्वविदित है कि राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव में सत्ता व विपक्ष के बीच आम सहमति न बनने की वजह से ही इसके लिए फिर अंतत: चुनाव हुआ। अब ठीक वही स्थिति बनने के कारण उपराष्ट्रपति पद के लिए भी छह अगस्त को चुनाव होने जा रहा है। बसपा ने ऐसे में उपराष्ट्रपति पद के लिए हो रहे चुनाव में भी व्यापक जनहित व अपने मूवमेंट को भी ध्यान में रखकर जगदीप धनखड़ को अपना समर्थन देने का फैसला किया है। मैं आज इसकी औपचारिक रूप से घोषणा कर रही हूं।'

झामुमो और आप ने दिया मार्गरेट अल्वा को समर्थन

उपराष्ट्रपति चुनाव में झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के लोकसभा व राज्यसभा सदस्य कांग्रेस प्रत्याशी मार्गरेट अल्वा को समर्थन करेंगे। झामुमो अध्यक्ष शिबू सोरेन ने इस संबंध में आधिकारिक निर्देश जारी किया है। राष्ट्रपति चुनाव में झामुमो ने राजग प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मु को समर्थन दिया था। आम आदमी पार्टी (AAP) ने भी बुधवार निर्णय लिया कि उपराष्ट्रपति पद के लिए हो रहे चुनाव में आप विपक्ष की उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा को समर्थन देगी। बैठक के बाद आप के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सदस्य संजय ¨सह ने पीएसी में लिए गए निर्णय के बारे में बताया।

Edited By: Dhyanendra Singh Chauhan