प्रयागराज, जेएनएन। विश्व हिंदू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा कि लोकसभा चुनाव में VHP किसी भी राजनीतिक दल का समर्थन नहीं करेंगे। कांग्रेस को समर्थन के सवाल पर उन्होंने कहा कि उनके बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है। उन्होंने कांग्रेस को निशाने पर लेते हुए कहा कि कांग्रेस का ऐसा अभी तक इतिहास नहीं रहा है कि वह हिंदुत्व और राम मंदिर (Ram Mandir) की बात करे। आगे कहा कि उन्होंने देशभर के सांसदों से मिलकर मंदिर के पक्ष में एक राय बनाने का आग्रह किया था।

दरअसल, कुछ मीडिया रिपोर्ट में आलोक कुमार का एक बयान चलाया जा रहा है, जिसके मुताबिक वीएचपी के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कांग्रेस को समर्थन देने की बात कही है। इसमें कहा गया है कि आलोक कुमार का कहना है कि लोकसभा चुनाव (Loksabha Elections) से पहले कांग्रेस अपने घोषणा पत्र में राम मंदिर का मुद्दा शामिल करती है, तो समर्थन देने पर विचार किया जा सकता है। हालांकि जब दैनिक जागरण के संवाददाता ने इस बयान के बारे में उनसे पूछा कि उन्होंने कहा कि उनके बयान को तोड़ा-मरोड़ा गया है।

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव से पहले राम मंदिर का मुद्दा गर्माया हुआ है। अयोध्या राम मंदिर मसला कोर्ट में है, लेकिन सड़क पर सियासत जारी है। जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी चुनाव से पहले यह स्पष्ट कर दिया है कि इस मसले को कानूनी तौर पर निपटाया जाएगा, कोई अध्यादेश लाने का विचार नहीं है। वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी कहा है कि मंदिर निर्माण का मामला कोर्ट है, चुनाव में नौकरी और किसानों से जुड़े मुद्दे अहम होंगे। ऐसे में साधु-संतों और राम मंदिर के इंतजार में वर्षों से तपस्या कर रहे लोगों के मन में आक्रोश जरूर है।

Posted By: Nancy Bajpai