जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी ने जून, 2017 में अपने अमेरिकी दौरे के दौरान ही राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को भारत आने का आमंत्रण दिया था। फिर जब 'हाउडी मोदी कार्यक्रम' के दौरान वह ह्यूस्टन में ट्रंप से मिले तब फिर उन्हें भारत आने का न्यौता दिया। अब लगता है कि ट्रंप भारत आने को तैयार हैं। अगर सब कुछ ठीक रहा तो अगले महीने के अंत तक अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप भारत के दौरे पर आ सकते हैं। उनके आने की तिथि को तय करने के लिए दोनो देशों के उच्च स्तरीय अधिकारियों के बीच लगातार संपर्क बना हुआ है।

महाभियोग पर अंतिम फैसला आने के बाद होगा निर्णय

संभावना इस बात की है कि राष्ट्रपति ट्रंप के खिलाफ अमेरिकी संसद में चल रहे महाभियोग पर अंतिम फैसला आने के बाद ही उनकी भारत यात्रा को लेकर भी अंतिम निर्णय होगा। सूत्रों के मुताबिक, ''राष्ट्रपति ट्रंप के भारत आने को लेकर लगातार अमेरिकी सरकार के संबंधित अधिकारियों से बात हो रही है लेकिन अभी तक पक्के तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता है।

फरवरी-मार्च में यात्रा टली तो इस कार्यकाल में अाना असंभव

ट्रंप अपनी वैश्विक कूटनीति के साथ ही घरेलू राजनीति में भी बुरी तरह से फंसे हुए हैं। लेकिन यह भी ध्यान रखना होगा कि अगर फरवरी-मार्च, 2020 तक उनकी यात्रा नहीं हो पाती है तो शायद उनके लिए इस कार्यकाल में भारत आना संभव नहीं हो सकेगा।'' दरअसल इसके बाद ट्रंप राष्ट्रपति चुनाव में व्यस्त होंगे।

नवंबर 2020 में होगा राष्ट्रपति चुनाव

अमेरिका में राष्ट्रपति का चुनाव चार वर्षो के अंतराल पर होता है और नवंबर, 2020 में नए राष्ट्रपति के लिए वोटिंग होगी। राष्ट्रपति ट्रंप ने सितंबर, 2019 में मोदी के साथ न्यूयार्क में हुई मुलाकात में भी कहा था कि वह जल्द से जल्द भारत आने की मंशा रखते हैं। सूत्रों के मुताबिक अमेरिकी प्रशासन स्वयं ही ट्रंप की यात्रा को जल्द करवाने को लेकर उत्साहित हैं।

ट्रंप की यात्रा भारत की बड़ी कूटनीतिक सफलता

ट्रंप की संभावित यात्रा भारत सरकार की एक बड़ी कूटनीतिक सफलता भी कही जाएगी। अभी सीएए व एनआरसी को लेकर अमेरिका, ब्रिटेन व कई यूरोपीय देशों में भारत के फैसले पर सवाल उठाये जा रहे हैं तब ट्रंप की यात्रा से यह संदेश दिया जा सकेगा कि भारत की उक्त नीतियों को लेकर अमेरिकी प्रशासन साथ है। कश्मीर को लेकर भी अमेरिकी प्रशासन अभी तक मिला जुला संदेश दे रहा है। राष्ट्रपति ट्रंप स्वयं कई बार कश्मीर में मध्यस्थता करने की बात कर चुके हैं। हाल ही में अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि वह कश्मीर की स्थिति को लेकर चिंतित है।

ट्रंप से पहले के तीनों राष्ट्रपति कर चुके हैं भारत का दौरा

वैसे जानकार यह भी मान रहे हैं कि अमेरिकी राष्ट्रपति की भावी यात्रा अधिकांश तौर पर दोनो देशों के बीच बढ़ रहे रणनीतिक संबंधों को लेकर हैं। इस पर भारत की आतंरिक नीतियों को सीमित असर ही पड़ेगा।सनद रहे कि पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन के समय से ही हर अमेरिकी राष्ट्रपति ने भारत की यात्रा की है।

पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने तो अपने दोनों ही कार्यकाल में भारत की यात्रा की। अपने कार्यकाल के अंतिम वर्ष 2016 में वह भारत के गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि थे। भारत ने राष्ट्रपति ट्रंप को वर्ष 2019 के गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि के तौर पर भी आमंत्रित किया था।

Posted By: Sanjeev Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस