नई दिल्ली, प्रेट्र। पाकिस्तान में 28 नवंबर को आयोजित होने वाले करतारपुर कॉरिडोर के शिलान्यास समारोह में केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल व हरदीप सिंह पुरी शामिल होंगे। दोनों नेता विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की जगह समारोह में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। इससे पूर्व पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सुषमा स्वराज को इस कार्यक्रम में आने का न्योता दिया था। इसके जवाब में स्वराज ने पूर्व निर्धारित व्यस्तता का हवाला देते हुए करतारपुर जाने में असमर्थता जताई। साथ ही यह भी कहा कि उनकी जगह हरसिमरत कौर बादल और हरदीप पुरी पाकिस्तान जाएंगे।

शनिवार रात पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को पत्र लिखकर सुषमा ने निमंत्रण के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने उम्मीद जताई कि करतारपुर कॉरिडोर के पाकिस्तान वाले हिस्से का निर्माण जल्द पूरा होगा। इससे पूर्व पाक विदेश मंत्री ने सुषमा के साथ पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और उनके मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू को भी करतारपुर कॉरिडोर शिलान्यास समारोह में शामिल होने का न्योता दिया था।

प्रेक्षकों का मानना है कि पाकिस्तान के आमंत्रण पर सुषमा के इस सकारात्मक जवाब से दोनों देशों के रिश्तों पर जमी बर्फ पिघल सकती है। बातचीत का सिलसिला फिर शुरू हो सकता है।

ध्यान रहे अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटा करतारपुर पाकिस्तान का एक शहर है। यहीं पर सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देवजी ने अपनी जिंदगी के आखिरी 18 वर्ष व्यतीत किए थे। यहां स्थित ऐतिहासिक गुरुद्वारा दरबार साहिब सिखों का प्रमुख धार्मिक स्थल है। इसको पंजाब के गुरदासपुर जिले के डेरा बाबा नानक से जोड़ने के लिए भारत और पाकिस्तान ने अपने-अपने क्षेत्र से अंतरराष्ट्रीय सीमा तक कॉरिडोर बनाने का फैसला किया है।

पाकिस्तानी हिस्से वाले कॉरिडोर का शिलान्यास वहां के प्रधानमंत्री इमरान खान 28 नवंबर को करेंगे। जबकि भारतीय क्षेत्र वाले कॉरिडोर का शिलान्यास 26 नवंबर को उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू करेंगे।

Posted By: Bhupendra Singh