नई दिल्‍ली, एजेंसी। केंद्रीय मंत्री अश्‍व‍िनी वैष्‍णव ने बुधवार को भारतीय न‍िर्माण क्षेत्र (Manufacturing Sector) में केंद्र के सराहनीय कामों का जिक्र किया। साथ ही उन्‍होंने कहा क‍ि बीते 8 सालों में प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की सरकार ने 1500 से ज्‍यादा कानूनों को खत्‍म कर दिया, जिससे यह क्षेत्र बुरी तरह जकड़ा हुआ था। 

8 सालों में एक एक कर कानूनों को किया खत्‍म 

केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा, 'देश का मैन्‍युफैक्‍चर‍िंग सेक्‍टर कानून से जकड़ा हुआ था। प्रधानमंत्री ने एक एक कर इसे खत्‍म किया। बीते 8 सालों में 1500 से अध‍िक कानून रद किए गए। नतीजा सामने है, यह क्षेत्र तमाम उद्योगों के बीच सबसे बड़ा बनकर उभरा है।'

केंद्रीय मंत्री ने 'वंदे भारत' का दिया उदाहरण 

अश्‍व‍िनी वैष्‍णव ने  आगे कहा, ' विश्व स्तरीय ट्रेनों का मतलब कि आपको जापान,जर्मनी और फ्रांस जाना होगा। प्रधानमंत्री ने स्‍पष्‍ट कहा क‍ि भारत में ही विश्व स्तरीय ट्रेनों की को डिजाइनिंग होगी और यहीं उनका निर्माण होगा। इसके बाद 'वंदे भारत' का निर्माण हुआ।'

टेक्‍नोलॉजी का उपभोक्‍ता नहीं उत्‍पादक बनने की ओर भारत 

टेक्‍नोलाजी का उपभोक्‍ता होने के बजाय अब भारत इसका उत्‍पादक बन रहा है। IT मंत्री अश्‍व‍िनी वैष्‍णव ने आज कहा क‍ि डिजिटल इकोनॉमी ने अब तक 88 लाख रोजगार के मौके उपलब्‍ध कराए हैं। अगले दो साल में यह 1 करोड़ के आंकड़े को पार कर जाएगा।

मोबाइल फोन के दूसरे सबसे बड़े न‍िर्माता बन गया है भारत 

केंद्रीय मंत्री ने  आगे बताया, 'अब हम मोबाइल फोन के दूसरे सबसे बड़े निर्माता बन गए हैं। इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर में 25-30 लाख रोजगार के अवसर आए। IT सर्विसेज ने 55 लाख नौकरियों का आंकड़ा पार कर लिया। वहीं स्‍टार्ट अप सेक्‍टर में 8 लाख नौकरियां हैं।'

विदेशियों ने सालभर में 1.75 लाख करोड़ निकाले, तो म्यूचुअल फंड्स ने 1.93 लाख करोड़ निवेश कर मजबूती दी

रूस-यूक्रेन युद्ध में ड्रोन वॉर, भारत के खिलाफ नशा और आतंकवाद फैलाने में इनका इस्तेमाल बढ़ा

Edited By: Monika Minal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट