राज्य ब्यूरो, कोलकाता। बंगाल में शिक्षक भर्ती घोटाले को लेकर केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने गुरुवार को एक बार फिर ममता सरकार पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा कि जिस प्रकार की अनियमितताएं सामने आई है वह बेहद ही चिंताजनक है। उन्होंने कहा कि शिक्षक शिक्षा का मजबूत आधार हैं, लेकिन शिक्षक भर्ती में बंदरबांट कर बंगाल सरकार ने नौजवानों के सपनों को चकनाचूर करने का काम किया है। बंगाल प्रवास के दूसरे दिन कोलकाता से सटे दक्षिण 24 परगना के बारुईपुर में जिला भाजपा कार्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए प्रधान ने कहा कि शिक्षा के हर स्तर पर यहां नोटों का खेला जारी है।

टीएमसी ने शिक्षा व्‍यवस्‍था को किया बदहाल 

उन्होंने फिर जिक्र किया कि पूरे देश ने बंगाल में नोटों का पहाड़ देखा और सच्चाई सामने आ चुकी है। प्रधान ने इस बात पर जोर दिया कि बंगाल की पूंजी ज्ञान और शिक्षा है, लेकिन राज्य की सत्तारूढ़ दल ने शिक्षा व्यवस्था को बदहाल कर दिया है।

शिक्षकों और नौजवानों के साथ होना चाहिए न्‍याय

उन्होंने कहा कि बंगाल के शिक्षकों और नौजवानों के साथ न्याय होना चाहिए। प्रधान ने युवाओं से आह्वान किया कि भ्रष्टाचार और भाई-भतीजावाद का सफाया करने के लिए वे अपने संकल्प को मजबूत करें। बता दें कि इससे पहले शिक्षक भर्ती घोटाले में पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी के बाद प्रधान ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भी पत्र लिखकर कहा था कि इस तरह नियुक्ति में भ्रष्टाचार से युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ होगा।

एनईपी को राजनीति से परे रखे राज्य

इधर, नई शिक्षा नीति (एनईपी) को लेकर भी प्रधान ने कहा कि बंगाल के बेहतर भविष्य के लिए राज्य सरकार को इसे राजनीति से परे रखना चाहिए। इस दौरान प्रधान ने दक्षिण 24 परगना जिले में पिछले 10 साल से बंद पड़े नवोदय विद्यालय एक को सुचारू रूप से चलाने, स्थायी भवन निर्माण के लिए जमीन उपलब्ध कराने तथा बांग्ला भाषा की भव्यता बढ़ाने की दिशा में भी राज्य सरकार से सहयोग की अपील की। उन्होंने कहा कि शिक्षा व्यवस्था सुदृढ़ करना केंद्र की प्राथमिकता है। नवोदय विद्यालय के सुचारू संचालन से जिले के गरीब, दलित व वंचित वर्ग के विद्यार्थियों को शिक्षा से जोड़ने के अवसर बढ़ेंगे।

एससी समुदाय के कार्यकर्ता के घर किया भोजन

2024 लोकसभा चुनाव के मद्देनजर सांगठनिक मजबूती के लिए भाजपा के प्रवास कार्यक्रम के तहत एक महीने के भीतर दूसरी बार आए प्रधान ने कोलकाता से सटे जादवपुर लोकसभा क्षेत्र में दो दिन बिताया। उन्होंने जादवपुर लोकसभा अंतर्गत बारुईपुर में गुरुवार को भी पार्टी नेताओं व कार्यकर्ताओं के साथ सांगठनिक बैठकें की। पहली बार वोट देने वाले मतदाताओं के साथ भी उन्होंने संवाद किया। दोपहर में प्रधान ने यहां अनुसूचित जाति (एससी) समुदाय से जुड़े बूथ कार्यकर्ता सुकदेव सरदार के घर दोपहर का भोजन किया। शाम में उन्होंने भविष्य की शिक्षा पर प्रख्यात शिक्षाविदों और बुद्धिजीवियों के साथ भी संवाद किया। 

Edited By: Krishna Bihari Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट