जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। भाजपा के भावी अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) के पक्ष में लगभग दो दर्जन नामांकन सेट भरे जाएंगे। बताया जा रहा है कि उन सभी राज्यों से जहां संगठन के चुनाव हो चुके हैं वहां से एक सेट आएगा। यह चुनाव निर्विरोध ही होने की संभावना है।

यूं तो भाजपा में निर्विवाद रूप से सर्वसम्मति से राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनने की परंपरा रही है लेकिन एक बार जब नितिन गडकरी को दोबारा अध्यक्ष चुने जाने की तैयारी हो रही थी तो थोड़ा विवाद खड़ा हुआ था जब यशवंत सिन्हा के लिए नामांकन का फार्म लेकर महेश जेठमलानी गए थे।

हालांकि उस वक्त भी यशवंत सिन्हा की ओर से कोई नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया गया था। यह और बात है कि तब नाटकीय ढंग से गडकरी की जगह राजनाथ सिंह को अध्यक्ष बनाया गया था। उस वक्त थावरचंद गहलोत चुनाव अधिकारी थे।

निर्विरोध ढंग से चुना जाएंगे जेपी नड्डा

बताया जाता है कि इस बार भी निर्विरोध ढंग से ही नड्डा को अध्यक्ष चुना जाएगा। संविधान के अनुसार किसी भी उम्मीदवार के पक्ष में कम से कम तीन नामांकन पत्र होने चाहिए जबकि नड्डा के पक्ष में 21-21 सेट दाखिल होंगे। सभी राज्यों को इस बाबत निर्देश दिया गया है।

भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा 20 जनवरी यानी सोमवार को औपचारिक रूप से अध्यक्ष चुन लिए जाएंगे। भाजपा के राष्ट्रीय चुनाव अधिकारी व सांसद राधा मोहन सिंह ने राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव का कार्यक्रम घोषित कर दिया है। सोमवार 20 जनवरी को नामांकन से लेकर नाम वापसी तक की प्रक्रिया होगी और जरूरी हुआ तो अगले दिन मतदान होगा। 

चुनाव अधिकारी के अनुसार 20 जनवरी को 10 बजे से 12.30 बजे तक नामांकन करने की प्रक्रिया होगी। 12.30 से एक घंटे तक नामांकन पत्र की जांच होगी और 1.30 से अगले एक घंटे तक का वक्त नामांकन वापसी के लिए रखा गया है।

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस