जेएनएन, नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन को दुनिया के लिए खतरा बताया है। उन्होंने चीन की बढ़ती ताकत पर भी चिंता जताई है। ट्रंप ने कहा है कि सैन्य क्षमता बढ़ाने के लिए चीन अपने देश में अमेरिका के इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स की चोरी पर रोक नहीं लगा रहा है। वह दक्षिणी चीन सागर में अमेरिका को घेरने की कोशिश कर रहा है।

ट्रंप शुक्रवार को वाशिंगटन में ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के साथ बैठक के बाद पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा, 'चीन तेजी से सैन्य ताकत में इजाफा कर दुनिया के लिए खतरा उत्पन्न कर रहा है। इसमें खुलेआम अमेरिकी बौद्धिक संपदा का इस्तेमाल कर रहा है। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपतियों ने चीन को हर साल 50 हजार करोड़ अमेरिकी डॉलर और हमारे इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स ले जाने की अनुमति दी। हमें इसे लेकर कदम उठाने की जरूरत है।'

ट्रंप के सामने कई चुनौतियां

समाचार एजेंसी एपी के मुताबिक ट्रंप के एजेंडे में विदेश नीति को लेकर कई अनसुलझे मुद्दे हैं। अगले हफ्ते संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक को संबोधित करने जा रहे ट्रंप के सामने ईरान, उत्तरी कोरिया, अफगान तालिबान, इजरायल और फलस्तीन जैसी चुनौतियां हैं।

हालांकि, ट्रंप लगातार कहते भी रहे हैं कि अन्य देशों के साथ विभिन्न मुद्दों पर समझौते को लेकर कोई जल्दबाजी नहीं है। राष्ट्रपति के रूप में उनका तीन साल का कार्यकाल खत्म हो गया है। 2020 में होने वाले चुनाव से पहले उन्हें विदेश नीति के मोर्चे पर कुछ करके दिखाना होगा। 

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप