जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवानों के पार्थिव शरीर को भारी मन से देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पालम हवाई अड्डे पर इस वादे के साथ आखिरी सलामी दी कि उनका ये बलिदान देश व्यर्थ नहीं जाने देगा।

श्रीनगर से शुक्रवार की देर शाम वायुसेना के बोइंग सी-17 ग्लोबमास्टर से सभी शहीदों के शव को दिल्ली लाया गया, जहां गृह मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई केंद्रीय मंत्री व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल मौजूद थे। सीआरपीएफ के आला अफसरों समेत, तीनों सेनाओं के प्रमुखों ने शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। यहां से इन सभी शवों को अंतिम संस्कार के लिए घर भेज दिया जाएगा।

नम आंखों से अपने साथी सैनिकों को अंतिम विदाई देने के लिए पहुंचे सीआरपीएफ के सैनिकों के शवों को कन्धा देने के दृश्य ने सभी का दिल पसीज दिया। 40 शवों में से अधिकतर की पहचान कर ली गई है, लेकिन उनमें से कुछ की स्थिति अत्यंत खराब होने के कारण उनकी पहचान करने में मुश्किल का सामना भी करना पड़ा।

वहीं इससे पहले आतंकी हमले के मद्देनजर हालात का जायजा लेने के लिए शुक्रवार की सुबह ही जम्मू-कश्मीर के दौरे पर गए गृह मंत्री राजनाथ सिंह, राज्यपाल सत्य पाल मलिक, सीआरपीएफ के महानिदेशक आर आर भटनागर ने शव को दिल्ली भेजे जाने से पहले श्रीनगर में दिवंगत आत्माओं को अंतिम श्रद्धांजलि दी।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस