मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्ली, एएनआइ। भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा कि यह सत्यापित नहीं किया जा सकता है कि पाकिस्तान ने आतंकवादी शिविरों को बंद कर दिया है या नहीं। लेकिन हम अपनी सीमाओं पर कड़ी निगरानी रखना जारी रखेंगे। बता दें कि यह दावा किया जा रहा था कि Pok (Pakistan Occupied Kashmir) में पाकिस्तान द्वारा सभी टेररिस्ट कैंप बंद कर दिए है।

बिपिन रावत ने कहा है कि हमारे पास यह जांचने का कोई तरीका नहीं है कि पाकिस्तान ने ऐसा कुछ किया है। हम अपनी सीमाओं पर कड़ी चौकसी बनाए हुए हैं। सेना द्वारा आयोजित दौरे के दौरान रावत ने यह बात एक समारोह में कही। इस समारोह के दौरान उन्होंने जम्मू-कश्मीर के 140 से अधिक बच्चों और शिक्षकों से मुलाकात भी की।

रिपोर्ट्स के मुताबिक बताया गया कि पाकिस्तान सेना ने लाइन ऑफ कंट्रोल पर एक दर्जन से अधिक ट्रेनिंग कैंप सहित आतंकी ढांचों को बंद कर दिया है। वहीं, रिपोर्ट में एफएटीएफ का भी जिक्र किया गया और बताया गया कि अगले हफ्ते फाइनेंशियल एक्‍शन टास्‍क फोर्स की बैठक होनी है, जिसमें पाकिस्तान को गैर अनुपालन के लिए ब्लैकलिस्ट किया जा सकता है।

वहीं, पाकिस्तान द्वारा आतंकवादियों की घुसपैठों के प्रयासों पर सेना के शीर्ष सूत्रों ने कहा कि इस समर में पाकिस्तान सेना द्वारा ऐसे कोई प्रयास नहीं किए गए है। हालांकि सेना द्वारा बताया गया कि सीमाओं पर कड़ी निगरानी रखी गई है और पाकिस्तान द्वारा सीमाओं से किसी भी घुसपैठ को विफल करने के लिए हम तैयार है।

हालांकि, अभी खुफिया एजेंसियां यह पता लगाने में भी जुटी है कि पाकिस्तान द्वारा सही में कैंपों को बंद कर दिया गया है या फिर कहीं और शिफ्ट कर दिया गया है। बता दें कि पाकिस्तान पर एफएटीफ के प्रतिबंध की तलवार लटक रही है। अगर पाकिस्तान आतंकियों या उनके ठिकानों के खिलाफ कार्रवाई को नहीं दिखाता है तो उसे FATF की कार्रवाई झेलनी पड़ सकती है और कही ना कही PAK प्रतिबंधों से बचने के लिए ही आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई को दिखाना चाहता है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Nitin Arora

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप