नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। राज्यसभा में शुक्रवार को प्रश्नकाल के दौरान एक ऐसा चौंकाने वाला वाकया हुआ, जिसे सुनने के बाद एक बार तो सभी अवाक ही रह गए। हुआ यूं, कि सदन में रेल मंत्रालय से जुड़े सवाल-जवाब का दौर चल रहा था। तभी एक सदस्य ने रेलवे में यात्रियों की सुरक्षा का मुद्दा उठाते हुए ऐसे ही किसी एक घटनाक्रम का जिक्र किया और मंत्री से जानना चाहा कि दोषियों के खिलाफ कोई कार्रवाई की गई या नहीं। इसके बाद तो रेल राज्यमंत्री अंगादि सुरेश चन्नबासप्पा का जवाब सुनकर सभी चौंक पड़े।

रेल राज्यमंत्री ने कहा-'सर, हमारी सरकार में हम किसी को नहीं छोड़ेंगे। हम घुस कर मारने वाले हैं। हम उन लोगों को भी घुस कर मार रहे हैं।'

हालांकि मंत्री के इस जवाब के बाद सदन में हो-हल्ला शुरू हो गया। इसके बाद उपसभापति ने हस्तक्षेप किया और मंत्री से कहा कि यदि उन्हें सदस्य की ओर से पूछे गए सवाल के बारे में पता है, तो सीधे जानकारी दें। नहीं पता है, तो उसकी जानकारी लेकर उन्हें बाद में भी बता सकते हैं। इसके बाद मंत्री ने कहा उन्हें फिलहाल इसकी कोई जानकारी नहीं है, वह बाद में इसकी जानकारी जुटाकर देंगे।

हालांकि इसके बाद भी मामला जब शांत नहीं हुआ, तो रेल मंत्री पीयूष गोयल ने खुद मोर्चा संभाला। उन्होंने सदन को बताया कि यात्रियों की सुरक्षा से जुड़ा मुद्दा राज्य की जीआरपी देखती है। रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) सिर्फ रेलवे की संपत्ति की सुरक्षा का काम देखती है। इस बात को उन्होंने दो बार दोहराया और कहा जिन्हें समझ में नहीं आया हो, वह फिर समझ लें।

दरअसल राज्यसभा में यह हंगामा सपा सासंद जावेद अली खान की ओर से किए गए सवाल के बाद शुरू हुआ। जिसमें उन्होंने आम यात्रियों की सुरक्षा की हालत पर चिंता जताते हुए 15 जुलाई को गोंडवाना एक्सप्रेस में पूर्व विधायक के साथ हुई एक घटना का जिक्र किया था, जिसमें कुछ अनधिकृत लोगों ने उनके साथ मारपीट कर दी थी।

Posted By: Nitin Arora

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप