जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। नागरिकता कानून को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शनिवार को केंद्र सरकार पर तीखा हमला बोला और कहा यह कानून देश की आत्मा को तार-तार देगा। हालांकि उन्होंने कहा कि मोदी और शाह को इसकी कोई परवाह नहीं है। उनका एक ही संकीर्ण एजेंडा है। लोगों को आपस में लड़वाओ और असली मुद्दों को छुपाओ। लेकिन नाइंसाफी सहना सबसे बड़ा अपराध है। इसके लिए संघर्ष करना होगा।

लोकतंत्र की रक्षा के लिए हम कुर्बानी देने को तैयार: सोनिया

कांग्रेस अध्यक्ष शनिवार को रामलीला मैदान पर पार्टी की 'भारत बचाओ रैली' को संबोधित कर रही थी। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र की रक्षा के लिए हम कोई भी कुर्बानी देने को तैयार हैं। कार्यकर्ताओं से कहा कि वे बताएं, क्या वह संविधान की रक्षा के लिए संघर्ष के लिए तैयार हैं। इस पर भीड़ ने तैयार होने का भरोसा दिया। उन्होंने कहा कि नागरिकता कानून भेदभाव से भरा है। हमारे देश का बुनियादी स्वभाव ऐसे भेदभाव वाले कदमों की इजाजत नहीं देता है, लेकिन मै विश्वास दिलाती हूं, जिनके साथ अन्याय होगा, कांग्रेस पार्टी उनके साथ खड़ी रहेगी।

सोनिया गांधी ने मोदी सरकार को बताया 'अंधेर नगरी चौपट राजा'

सोनिया गांधी ने इस दौरान मौजूदा सरकार को 'अंधेर नगरी चौपट राजा' बताते हुए कहा कि देश के ऐसे ही हालात है। अर्थव्यवस्था सबसे खराब स्थिति में पहुंच गई है। महिलाओं के साथ अत्याचार की घटनाएं बढी है। किसान आत्महत्या कर रहे है। बेरोजगारी बढ़ी है।

संविधान की धज्जियां उड़ाई जा रहीं

संविधान की धज्जियां उड़ाई जा रही है। आखिर सबका साथ-सबका विकास की बात कहां गई? जिस कालेधन के लिए नोटबंदी की गई, वह कालाधन किसके पास है? इसकी जांच होनी चाहिए। उन्होंने इस दौरान संसद के काम-काज पर भी सवाल उठाए और कहा कि संसदीय समितियों में बगैर चर्चा के विधेयकों को पारित कराया जा रहा है।

मनमोहन ने मोदी सरकार पर  लगाया जनता से वादाखिलाफी करने का आरोप

रैली को पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी संबोधित किया और सरकार पर जनता से वादाखिलाफी करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि छह साल पहले सरकार ने जनता से काफी लुभावने वादे किए गए थे,लेकिन उनका क्या हुआ, यह सभी को पता है। उन्होंने लोगों से कहा कि कांग्रेस को मजबूत बनाए, ताकि हम देश को सही रास्ते पर आगे ले जा सके।

यदि अब भी हम चुप रहे, तो क्रांतिकारी संविधान नष्ट हो जाएगा

वहीं रैली को संबोधित करने हुए प्रियंका गांधी ने कहा कि यदि अब भी हम चुप रहे, तो डॉ भीमराव अंबेडकर द्वारा लिखा गया क्रांतिकारी संविधान नष्ट हो जाएगा। उन्होंने कहा कि देश के जो हालात है, ऐसे में अभी जो न्याय के खिलाफ नहीं लड़ेगा, उसे कायर कहा जाएगा।

रैली में भारी भीड़ को देखकर कमलनाथ ने कहा- मेरा ढाई सौ ग्राम खून बढ़ गया

रैली को इस दौरान मध्य प्रदेश के पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम, प्रियंका गांधी, मुख्यमंत्री कमलनाथ, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट, ज्योतिरादित्य सिंधिया आदि ने भी संबोधित किया। रैली में भारी भीड़ को देखकर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ काफी गदगद दिखे। उन्होंने कहा कि भीड़ को देखकर मेरा ढाई सौ ग्राम खून बढ़ गया है। उन्होंने मोदी से पूछा वह राष्ट्रवाद की बात करते है, लेकिन क्या बताएंगे कि भाजपा के कितने नेताओं ने देश के स्वतंत्रता आंदोलन में हिस्सा लिया।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस