नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Union Minister Smriti Irani) ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर निशाना साधा है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि राहुल गांधी ने हमेशा संसदीय कार्यवाही का अपमान किया। संसद में उनकी उपस्थिति भी 40 प्रतिशत से कम है। जो व्यक्ति राजनीतिक रूप से अनुत्पादक रहा है, वह यह सुनिश्चित करने के लिए खुद को समर्पित कर रहा है कि संसद में कोई बहस न हो।

संसद में गतिरोध पैदा करने वालों के सरगना हैं राहुल गांधी- स्मृति ईरानी

स्मृति ईरानी ने कहा, 'संसद में गतिरोध पैदा करने वाले नेताओं के सरगना, संसद में चर्चा न हो, संसद की कार्यवाही स्थगित हो, इसके रचनाकार राहुल गांधी से आज भाजपा के कार्यकर्ता पूछते हैं कि आपने अपने संसदीय इतिहास में लोकसभा में कितने प्राइवेट मेंबर बिल प्रस्तुत किए?

'संसद की कार्यवाही न चलने के लिए खुद को समर्पित कर रहे राहुल गांधी'

केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'जिन्होंने अमेठी के सांसद होने के नाते आज तक अमेठी के लिए एक प्रश्न न किया हो, जिन्होंने अमेठी छोड़कर वायनाड जाने के बाद 2019 के लोकसभा के शीतकालीन सत्र में 40 प्रतिशत से भी कम उपस्थिति रखी हो, आज वो संसद की कार्यवाही न चले, इसके लिए अपने आप को समर्पित कर रहे हैं।'

संसद की उत्पादकता पर अंकुश लगाने की कोशिश न करें राहुल- स्मृति ईरानी

स्मृति ईरानी ने कहा, 'राहुल गांधी, जिनका राजनीतिक इतिहास इस बात से भी दिखता है कि वो देश में कब हैं और देश के बाहर कब हैं, ये उनकी पार्टी के लिए भी चिंता का विषय बन जाता है, उनसे मैं कहना चाहती हूं कि वो संसद की उत्पादकता पर अंकुश लगाने की कोशिश निरंतर न करें।'

'जनता की अपेक्षाओं और आकांक्षाओं का प्रतीक है भारत की संसद'

केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'भारत की संसद, भारत की अपेक्षाओं, आकांक्षाओं का प्रतीक है। देश की जनता ये चाहती है कि संसद में उन विषयों पर चर्चा हो, जो देश के हर नागरिक के लिए महत्वपूर्ण है।'

Edited By: Achyut Kumar